प्राचीन पद्धतियों से लेकर आज के इलाज तक बीमारियों के दौरान खान-पान के परहेज और विशेष पोषण की बात की जाती है। यही कारण है कि अक्सर कहा जाता है हर बीमारी की जड़ पेट में छुपी होती है। यानी पेट ठीक तो इम्युनिटी भी दुरुस्त। लक्षण जो उभरते हैं कई सारे ऐसे लक्षण पेट से जुड़े होते हैं जो शरीर में चल रही उथल- पुथल की ओर इशारा कर सकते हैं। इन बातों पर करें गौर समय-समय पर पेट आपको कई तरह के संकेत देता है। आपका दैनिक नित्यकर्म इस प्राकृतिक प्रक्रिया का नियमित होना भी आवश्यक है।

यूं हर एक का पेट कुछ न कुछ भिन्नता लिए होता है। इसलिए इस प्रक्रिया में भी कुछ भिन्नता हो सकती है। खासकर आजकल के माहौल में। सामान्यतः भोजन को आपकी पाचन प्रणाली से गुजरने में कुछ घंटों का समय लगता है। इसके बाद ही पचे हुए भोजन को शरीर से बाहर निकालने की प्रक्रिया शुरू होती है।

लेकिन यदि शौच के आपके रूटीन में कोई परिवर्तन लगातार आ रहा है, कब्ज बनी हुई है या अन्य कोई समस्या है तो डॉक्टर से सलाह लें। कब्ज के पीछेडिहाइड्रेशन से लेकर थाइरॉइड की समस्या, फाइबर की कमी जैसे कई कारण हो सकते हैं।

इस नियमित प्रक्रिया का अनियमित होना मतलब अधिक समय तक पेट में पुराने भोजन का संग्रहण। ऐसे में पेट में सड़न पैदा होती है जो गंभीर समस्या बन सकती है। सही तरीका और सतर्कता अपने भोजन और दिनचर्या को लेकर नियमित होना पेट ही नहीं पूरे शरीर के लिहाज से अच्छा होता है।

यह भी पढ़ें : Health Care : पेट के स्वास्थ्य से जुड़ी इन बातों को ना करें नजरअंदाज

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close