Health News। जड़ी-बूटियां न केवल खाने का स्वाद बढ़ाने का काम करते हैं बल्कि इनसे स्वास्थ्य लाभ भी होता है। बीते कुछ सालों में जड़ी बूटियों के जरिए इलाज कराने का प्रचलन बढ़ गया है और लोगों को इससे काफी फायदा भी हो रहा है। कई लोगों का भरोसा हर्बल ट्रीटमेंट पर बढ़ता भी जा रहा है। कुछ सामान्य जड़ी बूटियों का प्रयोग छोटी-मोटी परेशानियों में किया जाता है, उन्हें घर पर भी आसानी से उगाया जा सकता है।

घर में जरूर लगाएं तुलसी

हर घर में तुलसी का पौधा आवश्यक रूप से उगाया जाता है, धार्मिक के साथ-साथ इसके चिकित्सकीय गुणों के कारण भी लोग इसे अपने घरों में लगाना पसंद करते हैं। यह एंटीआर्थराइटिक, टॉपिकल एंटीऑक्सीडेंट, एंटी इन्फ्लेमेटरी और कीड़ो-मकोड़ों से प्राकृतिक रूप से बचाव करती है। इनकी पत्तियों को खाने से विटामिन ए, के और सी के साथ-साथ मैग्नीशियम, आयरन, पोटेशियम और कैल्शियम प्राप्त होता है।

घर लगाकर खाएं ताजा धनिया पत्ती

विटामिन सी से भरपूर धनिया पत्ती को आसानी से घर पर उगाया जा सकता है। साथ ही साथ इसमें विटामिन और मिनरल्स भी पाए जाते हैं। ताजगी भरने वाली ये पत्तियां पाचन को बेहतर बनाती हैं और सूजन को कम करती हैं जो कि गैस्ट्रिक अपसेट के कारण पैदा होती है। साबुत धनिया ब्लड शुगर पर सकारात्मक प्रभाव डालता है और साथ ही लिवर व पैनक्रियाज पर बढ़ते प्रभाव को कम करता है, जिससे इंसुलिन का निर्माण सही तरीके से होता है और साथ ही साथ पाचन क्रिया बेहतर होती है।

Lemon balm पौधा

यह पौधा पुदीना के परिवार से संबंधित है। इसे आसानी से घर के गार्डन में या घर के कोने में लगाया जा सकता है। साइट्रिक खुशबू देने के साथ-साथ लेमन बाम सेहत संबंधी कई लाभ पहुंचाता है। लेमन बाम प्राकृतिक तरीके से नर्व्स और मसल्स के दर्द को दूर करता है।

कई बीमारियों में काम आता है पुदीना

पुदीना से बनी चाय पीने से साइनस की जकड़न दूर होती है, सिरदर्द में आराम मिलता है। पिपरमेंट ऑयल से पाचन क्रिया में लाभ मिलता है, मासिक चक्र के दौरान होने वाले दर्द में राहत मिलती है और आईबीएस के लक्षणों में राहत पहुंचाता है। इसे आप घर के किसी भी हिस्से में उगा सकते हैं।

रोजमैरी का पौधा

पाचन क्रिया को बेहतर बनाने में रोजमैरी भी एक असरदार हर्ब है। यह सांसों की बदबू दर्द को दूर करने में भी लाभकारी होती है। रोजमैरी ऑयल या फिर इस हर्ब को पानी में मिलाकर इस्तेमाल करने से सिर की रूसी दूर होती है और बाल तेजी से बढ़ते हैं।

अजवाइन का पौधा

अजवाइन एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन ए का बेहतरीन स्त्रोत है, जो कि आंखों, त्वचा, बालों और नाखूनों की सेहत के लिए अच्छा माना जाता है। यह एंटी इन्फ्लेमेटरी, एंटीसेप्टिक और एंटीबायोटिक होता है। कोल्ड, कफ, और खराब गले की स्थिति में अजवाइन के पत्तों को डालकर तैयार की गई चाय काफी राहत भरी होती है।

Posted By: Sandeep Chourey

  • Font Size
  • Close