Health Tips: क्या आप जानते हैं कि आपकी कई बीमारियों का इलाज मौसमी फल होते हैं? यानी अगर आप मौसम के अनुसार मिलनेवाले फल खा रहे हैं, तो आपकी कई बीमारियां बिना दवाईयों के ही ठीक हो जाएंगी। उदाहरण के लिए गर्मियों के मौसम में आपने जामुन बिकते तो खूब देखे होंगे, लेकिन कई लोग इसे मामूली या जंगली फल समझ कर नहीं खाते। पर शायद आपको मालूम नहीं होगा कि आयुर्वेद में जामुन को कितना चमत्कारी फल बताया है। यूं तो गर्मियों में जामुन स्वास्थ्य संबंधित कई समस्याओं से छुटकारा दिलाने में मदद करता है, लेकिन खास तौर पर डायबीटीज के रोगियों के लिए ये रामबाण माना जाता है। तो चलिए आपको बताएं जामुन के फायदे।

जामुन में क्या होता है?

गर्मियों में मिलनेवाला जामुन बहुत ही स्वादिष्ट और मीठा होता है। तेज गर्मी में इसका जूस शरीर को हाइड्रेटेड रखने का काम करता है। नीले और बैंगनी रंग का ये फल कई औषधीय गुणों, मिनरल्स और विटामिन से भरपूर होता है। इसमें विटामिन सी होता है और इसलिए इसे खाने से इम्यूनिटी बूस्ट होती है। जामुन में प्रोटीन, फाइबर, आयरन, कार्बोहाइड्रेड, विटामिन सी, विटामिन बी, मैग्नीशियम, कैल्शियम, विटामिन बी6, राइबोफ्लेविन और नियासिन होता है। जामुन के जूस से लेकर इसकी पत्तियों और गुठली तक में औषधीय गुण होते हैं। जामुन को कई आयुर्वेदिक उपचार में इस्तेमाल किया जाता है। डायबिटीज के मरीज को जामुन खाने से बहुत लाभ मिलता है। जामुन डाइजेशन, दांतों, आंखों, पेट और किडनी जैसी कई समस्याओं के लिए भी फायदेमंद है।

डायबिटीज

जामुन में ऐसे पोषक तत्व और एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो ब्लड शुगर के स्तर को कंट्रोल करने में मदद करते हैं। इसमें लो-ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता है, जो ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल में रखने का काम करता है। शुगर के मरीजों को सलाह दी जाती है कि 100 ग्राम जामुन की जड़ या गुठली में 250 मिली पानी मिलाकर पीस लें। फिर इसमें 20 ग्राम मिश्री डालकर सुबह-शाम खाने से पहले पिएं। मधुमेह में इससे काफी फायदा मिलेगा।

किडनी की पथरी

किडनी में स्टोन होने पर भी जामुन का इस्तेमाल फायदेमंद साबित होता है। जामुन खाने से छोटे साइज की पथरी भी गल जाती है। इसके लिए आप 10 मिली जामुन के रस में 250 मिग्रा सेंधा नमक मिलाकर दिन में 2-3 बार रोज पीएं। इससे पथरी टूटकर पेशाब के रास्ते बाहर निकल जाती है।

त्वचा

जामुन में एस्ट्रिंजेंट गुण होता है, जिससे मुंहासों से छुटकारा मिलने में मदद मिलती है। जामुन का रस त्वचा पर लगाने से पिम्पल्स नहीं होते हैं। ऑयली त्वचा वाले लोगों के लिए जामुन का सेवन बहुत ही फायदेमंद है। ये आपकी त्वचा को फ्रेश रखने और एक्स्ट्रा ऑयल को कंट्रोल करने में मदद करता है। जामुन की छाल खून को साफ कर त्वचा से जुड़े रोग दूर करती है।

मसूड़े

जामुन आपके मसूड़ों और दांतों के लिए फायदेमंद होता है। जामुन की पत्तियों में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं। इनका इस्तेमाल मसूड़ों से रक्तस्राव को रोकने के लिए किया जा सकता है। इसके लिए पत्ते को सुखा लें। अब इनका पाउडर बना लें। ये मसूड़ों से खून बहने और संक्रमण को रोकने में मदद करता है। ये मुंह के छालों का इलाज करने का काम भी करते हैं। जामुन के पत्तों की राख बनाकर दांत और मसूड़ों पर मलने से दांत और मसूड़े मजबूत होते हैं। जामुन के रस से कुल्ला करने पर पाइरिया भी ठीक हो जाता है।

अन्य फायदे

जामुन में विटामिन ए और सी होता है। ये आंखों की रोशनी को बेहतर बनाने में मदद करता है। जामुन का रस आंखों को भी कई तरह के विकार से बचाता है। पीलिया में भी जामुन बहुत फायदा करता है। जामुन के 10-15 मिली रस में 2 चम्मच शहद मिलाकर पीने से पीलिया का असर कम हो जाता है। इससे खून की कमी भी दूर होती है। जामुन पोटैशियम से भरपूर होता है। ये हृदय के लिए बहुत ही फायदेमंद है। ये हाई ब्लड प्रेशर, हृदय रोग और स्ट्रोक को दूर रखने में फायदेमंद होता है।

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close