Hypertension in India। भारत में हर चौथा युवा हाइपरटेंशन का शिकार है और सबसे खास बात ये है कि इन सभी युवाओं में से सिर्फ 10 फीसदी युवाओं का हाई ब्लड प्रेशर नियंत्रण में है। यह चौंकाने वाला खुलासा भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) की सोमवार को जारी की ताजा रिपोर्ट में हुआ है। ICMR के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने रिपोर्ट जारी करते हुए कहा कि देश के युवाओं में हाइपरटेंशन की समस्या तेजी से बढ़ रही है और इसे राष्ट्रीय प्राथमिकता की श्रेणी में रखा जाना चाहिए और जरूरी कदम उठाना चाहिए।

गौरतलब है कि The IHCI के साथ एक साझा पहल के तहत केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय, ICMR और भारत में स्थित WHO ऑफिस ने साझा तौर पर यह रिपोर्ट जारी की है। IHCI ने पंजाब, केरल, मध्य प्रदेश, तेलंगाना और महाराष्ट्र राज्यों के 26 जिलों को इस रिपोर्ट में कवर किया है।

ऐसे कंट्रोल कंट्रोल करें हाइपरटेंशन

आमतौर पर हाइपरटेंशन कम करने के लिए दवाओं का सेवन करते हैं, लेकिन कुछ घरेलू नुस्खों और दिनचर्या को नियमित करके भी Hypertension को कंट्रोल किया जा सकता है। अपनी जीवन शैली में नीचे बताए गए कुछ सामान्य बदलाव करके आप हाई बीपी को कंट्रोल कर सकते हैं।

सोडियम युक्त आहार कम लें

हाइपरटेंशन का सबसे बड़ा कारण शरीर में सोडियम की मात्रा का बढ़ना है। इसलिए आहार में सोडियम की कमी आपके हृदय स्वास्थ्य में सुधार कर सकती है और रक्तचाप को 5 से 6 मिमी/एचजी तक कम कर सकती है। सोडियम को प्रति दिन 2,300 मिलीग्राम तक सीमित करें। प्रोसेस्ड फूड का सेवन कम करें। खाने में ऊपर से नमक का सेवन कम करें। हाइपरटेंशन के मरीजों को नमक कम खाना चाहिए।

रोज करें व्यायाम

सप्ताह में 150 मिनट की व्यायाम करने से हाई बीपी को 5-8 मिमी/एचजी तक कम किया जा सकता है। यदि आप एक्सरसाइज करना बंद कर देंगे तो बीपी फिर बढ़ने लगेगा। ब्लड प्रेशर को कम करने के लिए आप वॉकिंग, साइकलिंग, स्विमिंग के साथ डांस भी कर सकते हैं।

कम वसायुक्त आहार ले

साबुत अनाज, फल, सब्जियां और कम वसा वाले डेयरी उत्पादों का सेवन ज्यादा करें। अपने खाने में पोटेशियम ज्यादा मात्रा में लें। सोडियम स्तर को कम करें। सब्जियां और फल पोटेशियम के बेहतरीन स्रोत हैं।

धूम्रपान करने से बढ़ता है हाइपरटेंशन

सिगरेट, शराब आदि का सेवन करने से भी हाइपरटेंशन बढ़ने लगता है। धूम्रपान छोड़ने से हाई बीपी की समस्या को कम किया जा सकता है। Hypertension की समस्या अन्य कई कारणों से भी हो सकती है। ज्यादा तनाव न लें। तनाव दूर करने के लिए ध्यान या प्राणायाम रोज जरूर करें।

Posted By: Sandeep Chourey