Monkeypox Virus Outbreak। मंकी पॉक्स के संक्रमण को लेकर दुनिया भर में चिंता बढ़ रही है। अर्जेंटीना में भी बीते 24 घंटे में Monkeypox से संक्रमित 2 लोग मिले हैं। Monkeypox फिलहाल यूरोप और उत्तरी अमेरिका के देशों में फैल गया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि Monkeypox संक्रमण के 200 मामले सामने आ चुके हैं।

भारत में अलर्ट जारी

भारत में मंकीपॉक्स को लेकर इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने जानकारी दी कि देश में अभी तक Monkeypox का कोई केस सामने नहीं आया है लेकिन हम किसी भी स्थिति के लिए पूरी तरह से तैयार है। ICMR एक अधिकारी ने कहा कि Monkeypox यूरोप, अमेरिका और अन्य देशों में भी फैल रहा है। भारत में अभी तक कोई खबर नहीं आई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की कोविड-19 तकनीकी प्रमुख मारिया वैन केरकोव ने कहा कि अगर अधिक निगरानी रखी जाए तो Monkeypox पर काबू पाया जा सकता है।

Monkeypox के लक्षण और कारण

हेल्थ विशेषज्ञों का कहना है कि मंकी पॉक्स से संक्रमित जानवरों के काटने से संक्रमण फैल सकता है। इसके अलावा Monkeypox जानवरों के रक्त, बाल, प्लाज्मा से भी फैल सकता है। संक्रमित जानवर के मांस को सही तरीके से न पकाए जाने पर भी मंकी पॉक्स से संक्रमण हो सकता है। इसके अलावा संक्रमित व्यक्ति के कपड़े, बिस्तर, तौलिये को शेयर करने से भी बचना चाहिए। संक्रमित व्यक्ति से जुड़ी चीजों के उपयोग से Monkeypox हो सकता है।

भारत में 80 बच्चों में टोमैटो फ्लू

Monkeypox संक्रमण के बीच भारत में टोमैटो फ्लू के कुछ मामले देखे गए हैं। केरल के कोल्लम जिले में कम से कम 80 बच्चे पहले से ही बुखार से प्रभावित हैं। टोमैटो फ्लू खासतौर पर बच्चों में होता है, जिनकी उम्र 5 वर्ष से कम है। टोमैटो फ्लू में भी चेचक, चिकनगुनिया जैसी बीमारियों के लक्षणों दिखाई देते हैं। दर्द, तेज बुखार, थकान जैसे लक्षण होते हैं।

Posted By:

  • Font Size
  • Close