Health Tips: इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। इस मौसम में हरी सब्जियां और फल आसानी से उपलब्ध हैं। महिलाओं को चाहिए कि इनका सेवन करें। देखने में आता है कि हम ठंड के मौसम में दही का सेवन बंद कर देते हैं। मान लेते हैं कि अमरूद और केला इस मौसम में नहीं खाना चाहिए जबकि यह सही नहीं है। ठंड के मौसम में भी रोजाना कम से कम आठ गिलास पानी जरूर पीएं। 45 वर्ष की उम्र के बाद महिलाओं को प्रोटिन की आवश्यकता पहले के मुकाबले ज्यादा रहती है।

प्रोटिन की जरूरत पूरी करने के लिए अंकुरित मूंग-चना खाएं। मूंगफली में भी प्रचुर प्रोटिन होता है। गुड़ के साथ मूंगफली का सेवन सेहत को खासा फायदा देता है। ठंड के मौसम में 15-20 मिनट रोजाना धूप में जरूर बैठें। इससे विटामिन डी की आवश्यकता पूरी होती है। धूप में बैठने से मानसिक स्वास्थ्य भी बेहतर रहता है। शोध में यह बात सामने आई है कि जो लोग ऐसे स्थानों पर रहते हैं जहां धूप नहीं रहती वे अवसाद में आ जाते हैं। हम रोटी सिर्फ गेहूं के आटे की खाते हैं। यह ठीक नहीं है। हमें अनाज बदल-बदलकर रोटी खाना चाहिए। इससे आंतों की सफाई होती है। मैदे का सेवन कम से कम करें। पैदल चलना सबसे बेहतर व्यायाम है।

यह कहना है वरिष्ठ स्त्री रोग विशेषज्ञ डा. नीरजा पौराणिक का। नईदुनिया से चर्चा में उन्होंने बताया कि गर्भावस्था में महिलाओं को कम मिर्च मसाले का खाना खाना चाहिए। गर्भावस्था के शुरुआती तीन माह में महिला को चाहिए कि वह थोड़ी-थोड़ी देर में थोड़ा-थोड़ा खाना खाए। ज्यादा मिर्च मसाला वाला खाना आपको एसीडिटी कर सकता है। यह भी देखने में आता है कि गर्भावस्था में कई महिलाएं अचानक से व्यायाम शुरू कर देती हैं। यह भी ठीक नहीं है। व्यायाम वहीं करें जो आपके लिए आसान हो। पैदल चलना सबसे अच्छा व्यायाम है। अगर आप एक बार में 30 मिनट नहीं चल सकतीं तो दिन में तीन बार 10-10 मिनट के लिए चलें।

Posted By: Sameer Deshpande

  • Font Size
  • Close