पढ़ने में कुछ अजीब लगता है न? तुम सोच रहे होंगे ऐसा कैसे हो सकता है? क्या ये कोई रियलिटी शो है या कोई लकी ड्रॉ? मगर ऐसा कुछ भी नहीं है। हम बात कर रहे हैं उस रवैये की जिससे तुम जिंदगी के लिए अपनी एप्रोच बदल सकते हो, साथ ही और भी सकारात्‍मक बन सकते हो। वो भी बस पांच मिनट में। जानो कैसे-

  • सुबह उठते ही बिस्तर छोड़ने से पहले बॉडी को स्ट्रेच करो, बैठ जाओ, गहरी सांस लो और उस बात को याद करो जो तुम्हें हमेशा हंसाती है। इसके बाद एकदम से बिस्तर छोड़ो।

  • टाइम टेबल बनाना हो, होमवर्क करना हो या और कोई जरूरी काम, पांच मिनट बाद में कर लूंगा या कर लूंगी की जगह मन में कहो पांच मिनट पहले करूंगा या करूंगी।

  • अगर क्लास में या कहीं और कोई तुम्हें तुम्हारे लुक्स या और किसी बात को लेकर चिढ़ा रहा है तो पांच मिनट के लिए आंखें बंद करके खुद को लक्ष्य की ओर बढ़ते देखो। गहरी सांस लो और अपने बारे में पॉजिटिव सोचो। ये सोच तुम्हारे दिमाग को वहां ले जाएगी जहां तुम्हें पहुंचना है और तुम्हें भटकने से बचाएगी।

  • जब भी समय मिले पांच मिनट अपने घर के बुजुर्गों को दो। उन्हें अखबार की हेडलाइन पढ़कर सुना दो या उनके लिए कोई छोटा सा काम कर दो। इससे तुम्हें आशीर्वाद के साथ ही ढेर सारी पॉजिटिविटी भी मिलेगी।

  • अगर तुम्हें कोई भी समस्या आ रही हो तो पाचं मिनट अपने पैरेंट्स से मांगो और उनसे अपनी दिक्‍कत बताओ। तुम्हें उत्‍तर जरूर मिलेगा।

  • करियर का मामला हो या फिर जिंदगी में डिसीजन लेने का, पाचं मिनट के लिए आंखें बंद करो और गहरी सांस लो। फिर फोकस करो। तुम्हें सही डिसीजन लेने में मदद जरूर मिलेगी।

  • रोज सुबह और शाम सिर्फ पाचं मिनट कोई नई छोटी सी चीज सीखने के लिए दो। जैसे बैंक के काम, बिजली के काम, घर के बजट को समझने का काम या फिर कोई लैंग्वेज सीखने का काम। बस याद रखो कि 5 मिनट का ये मन्त्र रेग्युलर होना चाहिए।

  • इस तरह कई सारी चीजें हैं जो पांच मिनट के इस मन्त्र से तुम्हें जोड़ सकती हैं, उनके बारे में सोचो, अपनाओ और दूसरों को भी बताओ।

Posted By: