मुंबई। पश्चिमी महाराष्ट्र के एक छोटे से गांव के लोगों को उम्मीद है कि तमाम मुश्किलों के बावजूद पाकिस्तान में मौत की सजा पाने वाले कुलभूषण जाधव अपने घर लौट आएंगे।

मंगलवार को जाधव के पैतृक गांव सतारा जिले के जावली में ग्रामीणों ने पाकिस्तान की निंदा की और जाधव की रिहाई की मांग की।

भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी को सोमवार को पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने जासूसी के आरोप में मौत की सजा सुनाई।

एक ग्रामीण ने कहा कि जाधव ने जावली स्थित अपने खेत में एक घर बनवाया था। वह साल में दो-तीन बार गांव आते थे।

ग्रामीण के अनुसार, भारत सरकार को किसी भी कीमत पर उन्हें रिहा कराना चाहिए। यह सरकार की जिम्मेदारी है। उनकी रिहाई के लिए पाकिस्तान पर दबाव डालना चाहिए।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस