महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने सोमवार को बतौर विधान परिषद सदस्य शपथ ग्रहण कर ली है। इसके साथ ही महाराष्ट्र में संवैधानिक संकट खत्म हो गया है। दक्षिण मुंबई में स्थित विधान भवन में महाराष्ट्र विधान परिषद के अध्यक्ष रामराजे निम्बालकर ने उद्धव ठाकरे और निर्विरोध चुने गए अन्य आठ लोगों को सदस्यता की शपथ दिलवाई। बता दें कि उद्धव ठाकरे के सीएम बनने के बाद 6 महीने का वक्त 27 मई को खत्म होने वाला था जिसमें उन्हें चुनाव जीतकर सदन में पहुंचना था। ऐसा न होने की सूरत में राज्य में संवैधानिक संकट उत्पन्न हो जाता।

इन एमएलसी ने ली शपथ

उद्धव ठाकरे के अलावा विधान परिषद उपसभापति नीलम गोरे, रणजीति सिंह मोहिते पाटिल, गोपीचंद पाडलकर, प्रवीण दटके, रमेश कराड, शशिकांत शिंदे, अमोल मितकरी और राजेश राठौर ने शपथ ली। ये सभी नौ सीटें 24 अप्रैल को खाली हुई थीं।

शिवसेना अध्यक्ष इस चुनाव के साथ ही पहली बार विधायक भी बने हैं। ठाकरे ने 28 नवंबर को सीएम पद की शपथ ली थी और उनके लिए 27 मई से पहले विधानमंडल के दोनों सदनों में से किसी एक का सदस्य बनना अनिवार्य था।

सभी चुने गए निर्विरोध

नौ सीटों पर सभी उम्मीदवार निर्विरोध चुने गए। ये सभी 24 अप्रैल को खाली हुई सीटों के लिए मैदान में थे। चुनाव अधिकारी ने बताया कि नामांकन वापस लेने की समय सीमा खत्म होने के बाद नतीजे आधिकारिक रुप से घोषित किए गए।

Posted By: Neeraj Vyas

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना