नई दिल्ली। महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर भाजपा और शिवसेना के बीच अब तक पटरी नहीं बैठी है। इस बीच सूबे की सियासत में एक बार फिर गर्माहट बढ़ सकती है। आज महाराष्ट्र कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कांग्रेस अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से दिल्ली में मुलाकात करेंगे। आधिकारिक तौर पर इस मुलाकात की वजह सामने नहीं आई है, लेकिन माना जा रहा है कि सूबे की सियासत को लेकर सोनिया गांधी से मुलाकात हो सकती है। राज्य में हुए विधानसभा चुनाव के 24 अक्टूबर को नतीजे आ चुके हैं। एक हफ्ते से भी ज्यादा का वक्त गुजर जाने के बावजूद भी अब तक पूर्ण बहुमत हासिल करने वाला भाजपा-शिवसेना का गठबंधन सरकार नहीं बना सका है। दोनों ही दलों के बीच सीएम पद को लेकर खींचतान जारी है।

सामने आ रही जानकारी के मुताबिक आज प्रदेश अध्यक्ष बाला साहेब थोरात सहित महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी (MPCC) के वरिष्ठ नेता अशोक चव्हाण, पृथ्वीराज चव्हाण, विजय एन वादेत्तीवार, माणिकराव ठाकरे सोनिया गांधी से मुलाकात करेंगे।

शिवसेना चाहती है अपना सीएम

महाराष्ट्र में हाल ही में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा को जहां 105 सीटें मिली हैं, वहीं शिवसेना के खाते में 56 सीटें आईं हैं। ऐसे में दोनों दल मिलकर आसानी से सरकार बना सकते हैं। लेकिन पेंच, सीएम की पोस्ट को लेकर फंस गया है। शिवसेना 50-50 फॉर्मूला के तहत अड़ गई है कि सीएम शिवसेना का होगा। इस पर भाजपा राजी नहीं है।

ऐसे में शिवसेना ने अन्य दलों के साथ सरकार बनाने से भी गुरेज ना करने के संकेत दे डाले हैं। शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने गुरुवार को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) अध्यक्ष शरद पवार से मुलाकात कर राज्य की राजनीति में हलचल पैदा कर दी थी। हालांकि उन्होंने इसे शिष्टाचार मुलाकात बताया था लेकिन इसके राजनीतिक गलियारों में अलग-अलग मायने निकाले जाने लगे हैं।

Posted By: Neeraj Vyas