नई दिल्ली Diwali 2020 । दीपावली पर अपने घर की सफाई हर कोई करता है, लेकिन दीपावली की सफाई में कभी-कभी थोड़ी सी लापरवाही बड़ा नुकसान कर सकती है। ऐसा ही कुछ अजीबोगरीब किस्सा पुणे में एक महिला के साथ हुआ। यहां पिंपरी चिंचवाड़ में रहने वाली एक 45 वर्षीय महिला ने दीपावली की सफाई करते समय पुरानी चीजों को बेकार समझते हुए कचरा वैन में डाल दिया। इन पुरानी चीजों में उसका एक खस्ताहाल बेकार पड़ा पर्स भी शामिल था, जिसके लाखों रुपए के गहने रखे हुए थे। कचरा वैन ने उस पूरे कचरे को डंपिंग ग्राउंड में जाकर डाल दिया, जहां पूरे शहर को कई सैकड़ों टन कचरा रोज पहुंचाया जाता है।

महिला को बाद में याद आया कि पर्स में रखे थे गहने

महिला का बेटा प्राइवेट जॉब में है और उसकी जल्द शादी होने वाली है। जब कचरा वैन गाड़ी लेकर चली गई, उसके बाद महिला को याद आया कि उस पर्स में करीब तीन लाख रुपए के गहने संभालकर रखे थे। महिला ने यह सोचकर उस पर्स में गहने रखे थे कि जब बेटे की शादी हो जाएगी और नई बहू आएगी तो यह गहनों भरा पर्स उसे सौंप देगी।

जब महिला को अपने गहनों के बारे में याद आया तो उसके होश उड़ गए और घबराकर उसने ये बात अपने बेटे को बताई। बेटे ने तत्काल नगर निगम के अधिकारी से संपर्क कर पिकअप वाहन और डंपिंग ग्राउंड को जाकर चेक किया। कौन की गाड़ी कचरा लेकर गई, उसमें कौन सा सफाईकर्मी था, उसका ड्यूटी चार्ट आदि विस्तृत जानकारी नगरनिगम के अधिकारियों द्वारा भी प्राप्त की गई। तब पता चला कि सफाईकर्मी हेमंत लखन उसे कचरे डेपो लेकर गया। वहां कचरे के विशाल पहाड़ को देखकर महिला ने पर्स मिलने की उम्मीद खत्म हो गई क्योंकि वहां पर्स खोजना किसी समंदर में सुई खोजने जैसा था। क्योंकि पूरे पुणे शहर का कचरा इसी जगह पर डम्प होता है।

सफाईकर्मी हेमंत के प्रयास से ऐसे मिला पर्स

सफाईकर्मी हेमंत ने अनुमान लगाया कि किस एरिया का कूड़ा कहां हो सकता है। उसने उसी हिसाब से कचरे को छानना शुरू किया। हेमंत ने एरिया को ध्यान में रखकर जहां पर्स खोजना शुरू किया, वहीं करीब 18 टन कूड़ा जमा था। आखिर 33 साल के हेमंत की मेहनत रंग लाई और काफी मेहनत के बाद पर्स ढूंढ निकाला। पर्स में रखे पूरे गहने महिला को सुरक्षित मिल चुके हैं।

गौरतलब है कि 2013 में भी हेमंत ऐसा ही एक वाकया देख चुका था, तब एक युवती ने 9 तोला सोने का मंगलसूत्र भी गलती से इसी तरह कचरे के हवाले कर दिया था, तब भी हेमंत ने उसे खोज कर युवती को सौंप दिया था। महिला ने पर्स पाने के बाद हेमंत को इनाम देना चाहा तो उसने लेने से इनकार कर दिया। 18,000 रुपए महीना वेतन पाने वाले हेमंत का कहना है कि उसे अपने काम के लिए निगम से वेतन मिलता है और उसने अपनी ड्यूटी को ही अंजाम दिया।

Posted By: Sandeep Chourey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस