मुंबई। गणेश उत्सव में इस बार जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 को हटाए जाने का मुद्दा छाया हुआ है। महानगर के वर्ली क्षेत्र में गणेश चतुर्थी उत्सव की थीम इस बार 'कश्मीर की कली' है। 2 सितंबर से शुरू होने वाले गणेश उत्सव को लेकर समाज के सभी वर्गों में उत्साह है।

यह है इसका कारण

वर्ली वासियों के अनुसार, इस बार भगवान गणेश का नाम 'कश्मीर की कली' दिया गया है, जो उस राज्य के महत्व को दर्शाता है। लोगों की कामना है कि वहां जल्द शांति व विकास स्थापित हो। पंडाल में कश्मीर के मशहूर पर्यटन स्थलों को दर्शाया गया है।

कश्मीरी पोशाक में भगवान गणेश की आरती

कश्मीरी पोशाक में भगवान गणेश की आरती का कार्यक्रम पेश करने वाली एक छात्रा ने कहा, 'अगर धरती पर कहीं स्वर्ग है तो वह कश्मीर है। शांति, आर्थिक संपदा, पर्यटन व शिक्षा कश्मीर में विकास का आधार होना चाहिए। वहां के बच्चों के हाथों में किताब होनी चाहिए, न कि बंदूक। मैंने अपने स्कूल में सभी साथियों को कहा है कि कश्मीरी हमारे हैं।'

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना