नई दिल्ली। कोहिनूर स्क्वेयर अनियमितता मामले में महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के प्रमुख राज ठाकरे को आज प्रवर्तन निदेशालय(ED) के सामने पेश होना है। इसे लेकर महाराष्ट्र की सियासत गरमाई हुई है। ED द्वारा भेजे गए समन के विरोध में मनसे कार्यकर्ताओं में जमकर गुस्सा है। राज ठाकरे के ED के समक्ष पेश होने के दौरान किसी भी तरह की लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति नहीं बने इसके लिए पुलिस हरसंभव कदम उठा रही है। इसी कड़ी में एमएनएस के वरिष्ठ नेता संदीप देशपांडे को पुलिस ने एहतियातन गिरफ्तार किया है।

यह है पूरा मामला

इंफ्रास्ट्रक्चर एंड लीजिंग फाइनेंशियल सर्विसेज द्वारा दिए गए लोन और उसके द्वारा किए गए निवेशों में राज ठाकरे की कंपनी कोहिनूर CTNL भी शामिल रही है। इस कंपनी में पूर्व सीएम मनोहर जोशी के बेटे उन्मेष जोशी एवं राजन शिरोडकर भागीदार रहे हैं। भवन निर्माण के लिए बनाई गई इस कंपनी को आइएलएंडएफएस ने 860 करोड़ रुपये का कर्ज दिया था।

ED कर रहा मामले की जांच

पिछले साल आइएलएंडएफएस का नियंत्रण सरकार के हाथ में आने के बाद उसके लेन-देन में हुई अनियमितताओं की जांच ED द्वारा की जा रही है। इसी के तहत कोहिनूर सीटीएनएल की भी जांच की जा रही है। हालांकि राज ठाकरे 2008 में ही इस कंपनी के अपने शेयर बेच चुके हैं।

बता दें कि राज ठाकरे को ED द्वारा समन भेजे जाने के विरोध में शिवसेना प्रमुख उद्भव ठाकरे भी आ गए थे। उन्होंने इस मामले में राज ठाकरे का समर्थन करते हुए उनका बचाव किया था।

Posted By: Neeraj Vyas