महाराष्ट्र में मुंबई से करीब 160 किलोमीटर दूर महाड कस्बे में एक पांच मंजिला इमारत पूरी तरह ढह गई है। इमारत के मलबे में 150 से अधिक लोगों के दबे होने की आशंका व्यक्त की जा रही है। अब तक 25 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला जा चुका है। एक व्यक्ति के मरने की सूचना है। लेकिन, हादसे की गंभीरता को देखते हुए मृतकों की संख्या बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। रायगढ़ जिला स्थित महाड कस्बे के काजलपुरा इलाके की यह इमारत सोमवार शाम करीब छह बजे ढह गई। इमारत ढहने के तुरंत बाद स्थानीय लोगों ने दबे लोगों को बचाने का काम शुरू कर दिया। दमकल विभाग की पांच गाड़ियां एवं कई जेसीबी घटनास्थल पर बचाव कार्य में लगे हैं। राज्य सरकार की मंत्री अदिति तटकरे के अनुसार, इस इमारत में 48 परिवारों के करीब 225 लोग रहते थे। यह इमारत अधिक पुरानी भी नहीं थी। इसके बावजूद इसके ढह जाने पर सवाल भी उठने लगे हैं। बचाव कार्य के लिए मुंबई एवं पुणे से भी राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की टीमें भेजी जा चुकी हैं।

पिछले कुछ दिनों से लगातार चल रही बारिश हालांकि बंद है। यदि बारिश शुरू हुई तो राहत और बचाव कार्य में मुश्किल हो सकती है। महाराष्ट्र मंत्री की मंत्री अदिति एस तटकरे ने बताया कि इमारत पांच म‍ंजिला थी जिसकी तीन मंजिलें ढह गईं। मलबे में 200 से अधिक लोगों के फंसे होने की आशंका है। 15 लोगों को बचाया गया है। वहीं NDRF ने कहा है कि उसकी तीन टीमें घटनास्थल पर पहुंच गई हैं।

राहत और बचाव कार्य जारी है। रिपोर्टों के मुताबिक, यह इमारत करीब 10 साल पुरानी थी और इसमें 50 परिवार रहते थे। यह भी बताया जाता है कि हादसे से एक घंटे पहले यह हिल रही थी। इसके बाद कुछ लोगों को बाहर निकाल लिया गया था लेकन काफी लोग फंसे रह गए थे। मौके पर मौजूद एनडीआरएफ और दमकल की टीमें युद्धस्‍तर पर राहत और बचाव कार्य में लगी हैं।

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close