मुंबई। मुंबई के कोलाबा में एक दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है। यहां रहने वाले 43 साल के एक शख्स ने बच्चे और शोहरत की चाहत में अपने ही दोस्त की तीन साल की मासूम बेटी की जान ले ली। पुलिस के मुताबिक उसने ये सब अपने मोरक्को में रहने वाले एक दोस्त के कहने पर किया। दोस्त ने कहा था कि अगर वह किसी बच्चे की कुर्बानी देता है तो उसके घर बच्चा होने के साथ ही उसे खूब शोहरत हासिल होगी।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कथित तौर पर कोलाबा में रहने वाले अनिल विष्णु चुगानी ने इस खौफनाक वारदात को अंजाम दिया। रमेशलाल हाथीरमानी की तीन साल की बेटी शनाया हाथीरमानी की विष्णु के सातवें मंजिल के फ्लैट से गिरकर मौत हो गई थी। रमेशलाल अनिल का स्कूल का दोस्त था। शनाया जिस तरह से सातवीं मंजिल से गिरी थी उसे लेकर पुलिस को आशंका थी कि वह खुद नहीं गिरी है बल्कि उसे किसी ने फेंका है। वहीं दूसरी ओर अनिल द्वारा खिड़की में ग्रिल ना होने की वजह से गिरने की बात कही गई थी।

पुलिस को ऐसे हुआ शक

पुलिस के अनुसार खिड़की में ग्रिल नहीं थी लेकिन वह जमीन से तीन साढ़े तीन फीट ऊपर थी। ऐसे में तीन साल की बच्ची वहां तक कैसे पहुंची ये बड़ा सवाल है। इसके साथ ही वह जहां गिरी मिली थी वह कई मीटर दूर थी। अगर बच्ची खुद गिरती तो इतना आगे तक नहीं जा सकती थी। इन बिंदुओं के आधार पर पुलिस को लगा कि यह दुर्घटना नहीं बल्कि बच्ची को किसी के द्वारा खिड़की से फेंका गया है। इसके बाद पुलिस ने अनिल पर हत्या का केस दर्ज किया।

हॉलिडे कोर्ट ने दी सात दिन की रिमांड

रविवार को संडे कोर्ट में अनिल को पेश किया गया था। पुलिस ने कोर्ट को बताया था कि अनिल के घर से एक डायरी भी बरामद हुई जिसमें उसने किसी बच्चे की हत्या करने की बात लिखी थी। पुलिस की अपील पर पूछताछ के लिए अनिल की एक हफ्ते की रिमांड पुलिस को सौंपी है।