मुंबई। पंजाब एवं महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक (PMC Bank) का घोटाला उजागर होने के बाद से ही जमाकर्ताओं में हलचल मची हुई है। अपने पैसे की चिंता में जमाकर्ताओं द्वारा प्रदर्शन भी किया जा रहा है। बैंक के खाताधारक सरकार से इस मामले में हस्तक्षेप की मांग भी कर रहे हैं। इसी कड़ी में गुरुवार को बैंक के खाताधारकों ने मुंबई स्थित नरीमन पाइंट में स्थित भाजपा दफ्तर के बाहर प्रदर्शन किया। जमाकर्ताओं ने सरकार से अपना पैसा लौटाने की मांग भी की। बता दें कि जिस वक्त जमाकर्ता भाजपा दफ्तर के बाहर प्रदर्शन कर रहे थे, उस वक्त वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा प्रेस कांफ्रेंस ली जा रही थी।

बता दं कि PMC बैंक में नियमों को ताक पर रखकर घोटाले का मामला सामने आने के बाद, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने 6 महीने के लिए कैश विथड्राल पर रिस्ट्रिक्टशन लगा दी है। इस दौरान हर खाताधारक सिर्फ अपने खाते से 25 हजार रुपए की राशि ही निकाल सकेगा।

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने दिया यह आश्वासन

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को मंबुई में PMC बैंक के खाताधारकों से मुलाकात की। इसके बाद उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित किया। वित्त मंत्री ने कहा कि इस मामले में सरकार के हाथ में कुछ नहीं है। यह मामला RBI देख रही है। यह उनके कार्यक्षेत्र का मामला है। इस मामले में वित्त मंत्रालय की छोटी सी भूमिका है। हालांकि उन्होंने कहा कि 'वित्त मंत्रालय का सीधे तौर पर इस मामले में कुछ भी लेना देना नहीं है क्योंकि इसमें RBI रेग्यूलेटर है। लेकिन मेरी तरफ से मैंने अपने मंत्रालय के सचिवों को कहा है कि वे ग्रामीण विकास मंत्रालय और शहरी विकास मंत्रालय के साथ इस मामले का विस्तृत अध्यन करें कि आखिर क्या हो रहा है।'

इस दौरान वित्तमंत्री ने यह भी कहा कि सरकार इस मामले में संबंधित अथॉरिटीज के साथ सक्रिय तौर पर जुड़ी हुई है जिससे PMC बैंक के खाताधारकों की समस्या का जल्द से जल्द निराकरण हो सके। सीतारमण ने कहा कि दिल्ली पहुंचकर वह इस मामले में वे RBI गवर्नर शक्तिकांत दास को भी संदेश पहुंचाएंगी कि विथड्राल लिमिट पर लगी रोक को हटाया जाए।

बता दें कि पंजाब और महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक में 4300 करोड़ का घोटाला सामने आया है।

Posted By: Neeraj Vyas