मुंबई। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई सहित आधे महाराष्ट्र पर बारिश का कहर जारी है। ठाणे, पालघर, नासिक और पुणे में बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं।

महाराष्ट्र सरकार खराब मौसम के चलते सतर्क हो गई है। सोमवार को भारी वर्षा के संकेत को ध्यान में रखते हुए, मुंबई महानगर क्षेत्र के नागरिक अपने घरों से बाहर तभी जा सकते हैं, यदि पूरी तरह से आवश्यक हो। सभी जरूरी सेवाएं जारी रहेंगी।

बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) ने जानकारी दी है कि सोमवार को सभी निजी और सार्वजनिक स्कूल और कॉलेज मुंबई में कल बंद रहेंगे। आपातकालीन और आवश्यक सेवाएं प्रदान करने वाले कुछ सरकारी कार्यालय खुले रहेंगे। निजी कार्यालय के कर्मचारी आवश्यक होने पर ही बाहर जा सकते हैं।

रविवार को महानगर का अधिकतर निचला इलाका बाढ़ की चपेट में नजर आया। यही हाल ठाणे, पालघर, कल्याण, नासिक, रायगढ़ और पुणे का था। मुंबई में औसत 150 मिलीमीटर तो ठाणे-पालघर में 200 मिलीमीटर बरसात दर्ज की गई। पटरियों पर पानी भरने से लोकल के साथ ही मेन ट्रेन सेवा बाधित हुई है।

बाढ़ में फंसे लोगों को निकालने के लिए एनडीआरएफ के साथ सेना के तीनों अंगों को मोर्चा संभालना पड़ा है। ठाणे में वायु सेना के एमआइ 17 हेलीकॉप्टर ने 38 लोगों को सुरक्षित निकाला। मुंबई और सतारा में बारिश के चलते पांच लोगों की मौत हुई है।

छह ट्रेनों को निरस्‍त करना पड़ा है और कुछ के मार्ग में बदलाव किया गया है। नासिक के त्रयंबकेश्वर मंदिर में पानी भर गया है। मुंबई में मीठी नदी का जलस्तर बढ़ने के कारण उसके किनारे रह रहे 400 लोग फंस गए थे। एनडीआरएफ की मदद से इन सभी लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया।

कहां क्‍या रहे हालात

- ठाणे के खडावली क्षेत्र में जुहूगांव-नंदखुरी गांव में करीब 38 लोग अपने घरों में करीब पांच फुट ऊंचाई तक पानी भर जाने के कारण फंसे हुए थे।

- CM देवेंद्र फड़नवीस के अनुरोध पर वायु सेना के एमआइ-17 हेलीकॉप्टर ने इन सभी लोगों को सुरक्षित निकाला।

- पुणे में भी खड़गवासला बांध से छोड़े गए पानी के कारण पैदा हुई बाढ़ से बचाने के लिए करीब 500 परिवारों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है।

- मुख्यमंत्री ने नौसेना और थलसेना से ठाणे-कल्याण क्षेत्र में बाढ़ में फंसे लोगों की मदद करने की अपील की है।

- मुंबई और आसपास के क्षेत्रों के लिए एनडीआरएफ की छह और टीमों की मांग की है। समुद्र में ऊंचा ज्वार आने की चेतावनी मुंबई महानगरपालिका द्वारा पहले ही दी जा चुकी थी।

- मौसम विभाग ने भी इसकी चेतावनी दी है और लोगों से समुद्र से दूर रहने की अपील की है। लोगों से घरों में बने रहने को भी कहा गया है।