मुंबई। पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) घोटाले के आरोपित नीरव मोदी के आलीशान बंगले के ध्वस्तीकरण का काम शुरू होने के दो दिनों बाद ही 27 जनवरी को रोक दिया गया।

महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले में स्थित नीरव के बंगले के भीतर कीमती फिटिंग लगी हुई हैं। प्रशासन चाहता है कि इन्हें सही सलामत निकालने के बाद ध्वस्तीकरण की कार्रवाई दोबारा शुरू हो ताकि ज्यादा से ज्यादा राशि की वसूली हो सके।

जिला प्रशासन ने कहा कि सिविल इंजीनियरिंग विभाग के इंजीनियर से मांगी गई रिपोर्ट मिल चुकी है। बंगले को गिराने का काम दोबारा शुरू किया जाएगा।

रायगढ़ के जिलाधिकारी विजय सूर्यवंशी ने पिछले महीने मुंबई से 90 किलोमीटर दूर अलीबाग बीच के पास किहिम में स्थित 58 अवैध इमारतों को गिराने का आदेश दिया था। इनमें नीरव मोदी का बंगला भी शामिल था।

अवैध इमारतों के खिलाफ कार्रवाई शुरू करने में विफलता पर बांबे हाई कोर्ट ने कड़ी फटकार लगाई थी। इसके बाद इन बिल्डिंग को गिराने का आदेश जारी किया गया।

अन्य एजेंसियों के साथ पीएनबी मामले की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने इस संपत्ति को जब्त किया था। नीरव मोदी देश छोड़कर फरार हो चुका है।

सूर्यवंशी ने बताया, 'बंगला गिराने की कार्रवाई अस्थायी तौर पर रोकी गई, क्योंकि जिला प्रशासन और ईडी बंगले से कीमती सामान को निकालकर नुकसान की अधिकतम भरपाई करना चाहते हैं।'

उन्होंने बताया कि टीम को बंगले के अंदर गद्दे, ग्लास फ्रेम, फर्नीचर आदि कीमती सामान भी मिले हैं। एक अन्य अधिकारी ने बताया कि ध्वस्तीकरण के कार्य में जुटी टीम को बंगले में दो कीमती कारें भी मिली हैं।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना