अहमदाबाद। भगवान जगन्नाथ की 145वीं रथयात्रा हाईटेक तकनीक व 25 हजार जवानों की सुरक्षा के बीच शुक्रवार को निकलेगी। केंद्रीय सुरक्षा बल की 25 कंपनियां, गुजरात पुलिस के 1 आईजी, 4 डीआईजी, 20 एसपी, 60 एसीपी व हजारों पुलिसकर्मी तैनात रहेंगे। गृह राज्यमंत्री हर्ष संघवी ने मंगलवार को रथयात्रा के मार्ग में फुट पेट्रोलिंग की वहीं मुस्लिम समाज के धर्मगुरुओं ने मंदिर के महंत का सम्मान किया।

बुधवार को भगवान जगन्नाथ, भाई बलभद्र व बहन सुभद्रा के साथ अपने ननिहाल सरसपुर से निजमंदिर आएंगे जहां वैदिक मंत्रोच्चार के साथ नेत्रोत्सव विधि होगी। गृह राज्यमंत्री हर्ष संघवी ने बताया कि रथयात्रा की सुरक्षा के लिए सरकार ने सभी आवश्यक प्रबंध किये हैं, हाईटेक निगरानी केलिए ह्रुमन इंटेलीजेंस, हेलीकॉप्टर, हाईविजन सीसीटीवी कैमरे, बॉडीवॉर्न कैमरा, वीएचएफ वॉकी टॉकी व ड्रॉन का इस्तेमाल होगा। संघवी ने मंगलवार को रथयात्रा के मार्ग में फुट पेट्रोलिंग भी की।

मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल रथों के आगे सोने की झाडू से बुहारकर पहली बार रथयात्रा की पहिंद विधि करेंगे। इससे पहले मंगला आरती में केंद्रीय ग्रह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह अपने परिवार के साथ शामिल होते हैं। गुजरात सरकार के मंत्रिमंडल के सभी सदस्य भी भगवान की आरती में शामिल होंगे, रथयात्रा की पूर्व संध्या पर कांग्रेस अध्यक्ष जगदीश ठाकोर, नेता विपक्ष सुखराम राठवा समेत कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता दर्शन करने जाएंगे।

बुधवार को मंदिर परिसर में ध्वजारोहण होगा जिसमें प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सी आर पाटिल शिरकत करेंगे। मंदिर ट्रस्टी महेंद्र झा ने बताया कि इस बार रथयात्रा का डेढ करोड रु का बीमा कराया गया है। यात्रा पर किसी भीड के हमले व दुुर्घटना से होने वाले नुकसान को कवर करता है। जगन्नाथ मंदिर से निकलने वाली रथयात्रा में प्रदेश के सौराष्ट्र के अलावा हरिद्वार, काशी, अयोध्या, नासिक, उज्जैन, जगन्नाथपुरी के 2 हजार से अधिक साधु संत शिरकत करेंगे।

हाईटेक सुरक्षा

पुलिस महानिदेशक आशीष भाटिया ने बताया कि अहमदाबाद सहित गुजरात भर में कुल 180 रथयात्राएं निकलेंगी। इनकी सुरक्षा में पुलिस महानिरीक्षक से लेकर कांस्टेबल तक 25 हजार अधिकारी व जवान तैनात रहेंगे। रथयात्राएं शांतिपूर्ण माहौल में निकले इसके लिए साइबर सेल व क्राइम ब्रांच इंटरनेट मीडिया पर सतत निगरानी कर रहा है। रथयात्रा के दर्शन के लिए करीब 10 लाख दर्शनार्थी आते हैं जिनकी सुरक्षा के लिए हेलीकॉप्टर, सीसीटीवी कैमरे, ड्रॉन, 10 हजार बॉडीवॉर्न कैमरे आदि की मदद ली जाएगी। ह्रुमन इंटलीजेंस के उपयोग के साथ सभी रथों पर जीपीएस सिस्टम लगाया जाएगा।

ये हैं रथयात्रा के आकर्षण

सजे धर्ज 108 ट्रक, रंग बिरंगी चित्रकारी से श्रंगार किए हुए 18 हाथी, 30 अखाडों के शारीरिक सौष्ठव की कला में माहीर अखाडेदार, 3 बैंडबाजा व नाचते गाते व जगन्नाथ की भक्ति में लीन कई दर्जन भजन मंडलियां। यात्रा के दौरान शाहपुर, दरियापुर आदि मुस्लिम इलाकों में मुस्लिम महिलाएं रथयात्रा केदौरान शांति के लिए फातिया पढेंगी, इससे पहले मंगलवार को मुस्लिम समुदाय के नेता व धर्मगुरुओं ने मंदिर पहुंचकर महंत दिलीपदास महाराज का स्वागत किया।

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close