बेंगलुरु। अभी तक आपने वीडियो गेम एडिक्शन के बारे में सुना होगा, सोशल मीडिया एडिक्शन से भी कई लोग नहीं बच पाए हैं लेकिन पहली बार नेटफ्लिक्स एडिक्शन का मामला सामने आया है। बेंगलुरू में 26 साल का एक बेरोजगार व्यक्ति नेटफ्लिक्स का इतना दीवाना हो गया कि एक दिन में सात-सात घंटे नेटफ्लिक्स पर वेब सीरीज और फिल्में देखने लगा।

हाल ही में बेंगलुरू के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मैटल हेल्थ एंड न्यूरोसाइंसेस के क्लीनिक सर्विस फॉर हेल्दी यूज ऑफ टेक्नोलॉजी में पहला ऐसा मामला सामने आया है। इस शख्स ने नेटफ्लिक्स सीरिज देखने के दौरान छह महीने के लिए घर में कैद हो गया।

वह दिनभर में 7 घंटे से भी ज्यादा समय फिल्मे देखने और नेटफ्लिक्स की सीरिज देखने में बिता रहा था और इससे उसे बहुत अच्छा महसूस हो रहा था और ये अपनी वर्तमान स्थिति से ऐसा करके दूर भागने की कोशिश कर रहा था। वह यह भी महसूस करता था कि उसके दोस्त उससे आगे निकल गए तो खुद को उस सोच से दूर रखने के लिए खुद को ने‍टफ्लिक्स पर बिजी रखने लगा। इस दौरान वह अपनी सारी समस्याओं को भूल जाता था और इससे उसे खुशी मिलती थी। लगातार नेटफ्लिक्स पर लगे रहने से उसके स्लीप पैटर्न में भी गड़बड़ी होने लगी और उसके आंखों में समस्या होने लगी। वह थका हुआ महसूस करने लगा।

उसकी स्थिति किसी गेम एडिक्टिड के जैसे ही थी जिसे WHO ने डिसऑर्डर की श्रेणी में रखा था। डॉक्टर उसे थैरेपी, रिलेक्सेशन एक्सरसाइज और करियर काउंसलिंग के जरिए मदद करने और इससे निकालने की कोशिश कर रहे हैं।

लंबे समय तक फिल्में देखने के कारण उसे महसूस हुआ कि इसका खुद पर से सेल्फ कंट्रोल हट रहा है और ये चाहकर भी कोई और काम नहीं कर पा रहा। इसलिए फिर डॉक्टर की मदद ली गई। डॉक्टरों के मुताबिक इस शख्स का मामला काफी एक्सट्रीम स्टेज पर था लेकिन अब तक लोग ऑनलाइन गेमिंग के एडिक्ट थे।

Posted By: