7th Pay Commission को लेकर आए दिन खबर सुर्खियों में रहती है। इस बार खबर कर्नाटक राज्य के कर्मचारियों के लिए है। दरअसल सोमवार को कर्नाटक सरकार ने राज्य के कर्मचारियों की डबल खुशी देने के निर्णय पर मोहर लगा दी है। सरकार ने महंगाई भत्ते के अतिरिक्त किश्तें जारी करने का आदेश दिया है, जिसे कोविड-19 महामारी से उत्पन्न संकट के मद्देनजर रोक कर रखा गया था। कर्नाटक सरकार ने मंहगाई भत्ते को जनवरी 2020 से जून 2021 की अवधि के लिए मौजूदा 11.25 प्रतिशत से संशोधित करके 21.50 प्रतिशत कर दिया है।

राज्य के कर्मचारियों को डबल खुशी देने का ऐलान करते हुए सरकार ने कहा कि ‘‘1 जनवरी 2020 से 30 जून 2021 की अवधि के लिए मंहगाई भत्ते की अतिरिक्त किस्तें जारी करते हुए बेहद खुशी हो रही है। इस निर्देश के अनुसार राज्य सरकार के कर्मचारियों को 2018 के संशोधित वेतनमान में देय महंगाई भत्ते की दरों को मूल वेतन के मौजूदा 11.25 प्रतिशत से 1 जुलाई 2021 से संशोधित करके 21.50 प्रतिशत किया जाएगा।‘‘ सरकार ने कहा कि ये आदेश यूजीसी/एआईसीटीई/आईसीएआर के वेतनमान पर सेवानितृत्त कर्मचारियों पर भी लागू हैं।

सरकार के इस नियम से पेंशन भोगियों को भी फायदा होगा। 1 जुलाई 2021 से राज्य सरकार पेंशनभोगियों या पारिवारिक पेंशनभोगियों और सहायता प्राप्त उन शैक्षणिक संस्थानों के पेंशनभोगियों या पारिवारिक पेंशनभोगियों के लिए महंगाई भत्ते की दरों को मौजूदा 11.25 प्रतिशत से बढ़ाकर 21.50 प्रतिशत करने की घोषणा की जिनकी पैंशन या पारिवारिक पेंशन का भुगतान राज्य की संचित निधि से किया जाता है। इस मंहगाई भत्ते के फायदे के क्षेत्र को निर्धारित करते हुए सरकार ने बताया कि ये आदेश पूर्णकालिक सरकारी कर्मचारियों, जिला पंचायतों के कर्मचारियों, सहायता प्राप्त शिक्षण संस्थानों और विश्वविद्यालयों के पूर्णकालिक कर्मचारियों पर लागू होंगे जो नियमित वेतनमान पर हैं।

Posted By: Arvind Dubey