हैदराबाद। एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने एक बार फिर समान नागरिक संहिता का विरोध किया है। उन्होंने कहा कि यह सिर्फ मुस्लिमों से जुड़ा मुद्दा नहीं है। पूर्वोत्तर के लोग भी इसके खिलाफ होंगे। ओवैसी ने भाजपा पर देश की बहुलता और विविधता को मिटाने की कोशिश का आरोप भी लगाया।

हैदराबाद से सांसद ओवैसी ने कहा कि नगालैंड और मिजोरम में इसका विरोध होगा। यह ऐसा मुद्दा है, जिस पर देश की बड़ी आबादी चिंतित है। यह देश की बहुलता और विविधता से जुड़ा मसला है, जिसे भाजपा खत्म करना चाहती है।

ओवैसी ने कहा, "भाजपा के लिए मुस्लिम को दुश्मन बनाना जरूरी है, ताकि वह इस मुद्दे पर ध्रुवीकरण कर सके। समान नागरिक संहिता पर लोग इनका खेल देख चुके हैं।"

उन्होंने आगे कहा, "जब केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू कहते हैं कि देश में धार्मिक कानून नहीं होने चाहिए तो उन्हें बताना होगा कि हिदू अविभाजित परिवार कानून, हिदू विवाह कानून, हिदू उत्तराधिकार कानून क्या हैं।"

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना