गालिब गुरु ने जम्मू-कश्मीर स्कूल परीक्षा बोर्ड की 10वीं की परीक्षा में 95 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं। रविवार को घोषित नतीजों के मुताबिक गालिब ने 500 में से 474 अंक हासिल किए। गालिब चर्चा में इसलिए भी है क्योंकि यह संसद पर आतंकी हमले में दोषी मोहम्मद अफजल गुरु का बेटा है। अफजल गुरु को तीन साल पहले फांसी दी जा चुकी है।

गालिब ने सभी पांचों विषयों में A1 ग्रेड हासिल की है। गालिब की यह कामयाबी सोशल मीडिया में चर्चा का विषय बन गई है। गालिब के साथ मदन तिवारी से फोन पर हुई बातचीत के अंश:

पढ़ाई के दौरान रोल मॉडल कौन था?

पढ़ाई के साथ ही पूरे जीवन में मेरे पिता ही रोल मॉडल थे।

आपकी जिंदगी का एक बड़ा हिस्‍सा पिता के बगैर गुजरा है। इस दौरान आप पढ़ाई पर मन कैसे केंद्रित करते थे?

मां शुरुआत से ही कहती थीं कि सिर्फ पढ़ाई किया करो और मेरा मनोबल बढ़ाती थीं। हालांकि दसवीं बोर्ड परीक्षा के शुरुआत में तो ज्‍यादा पढ़ाई नहीं करता था लेकिन फिर अंतिम चंद महीनों में दिनभर पढ़ाई की है। खेलने के लिए बहुत कम समय निकाल पाता था।

आर्थिक मोर्चों पर किस तरह की दिक्‍कतों का सामना करना पड़ा? घर और पढ़ाई में होने वाला खर्च किस प्रकार निकलता था?

पिता की मौत के बाद मां पूरी तरह घर संभालती थीं। वे एक अस्‍पताल में पार्ट-टाईम जॉब करती थीं। मां उस अस्‍पताल में मैनेजर थीं और उन्‍हीं के पैसों से किसी तरह घर का खर्च निकलता था।

पिता की मौत के बाद जिंदगी में किस प्रकार का बदलाव आया? इस दौरान क्‍या किसी टीचर, दोस्‍तों और क्‍लास में पढ़ने वाले अन्‍य बच्‍चों का व्‍यवहार कुछ अलग या अटपटा लगता था?

मेरे प्रति सभी लोगों का व्‍यवहार सामान्य ही था। सभी अन्‍य बच्‍चों की ही तरह टीचर मुझे भी प्‍यार करती रहीं। कभी उन्‍होंने मुझे महसूस नहीं होने दिया कि मेरे पिता अब जीवन में नहीं हैं। सभी मुझसे बेहद प्यार करते हैं।

आप बड़े होकर किसकी तरह और क्‍या बनना चाहते हैं?

सबसे पहले तो मुझे एक अच्‍छा इंसान बनना है। मैंने अपने जीवन का लक्ष्‍य तय कर रखा है और उसके हिसाब से डॉक्‍टर बनकर दिखाउंगा।

डॉक्‍टर के अलावा और कुछ बनना चाहते हैं?

(थोड़ा सोचते हुए)... डॉक्‍टर के अलावा मेरी रुचि खेलों में भी है। क्रिकेटर बनना चाहता हूं लेकिन फिलहाल अभी तक किसी बड़े टूर्नामेंट में हिस्‍सा नहीं लिया है। महज शौकिया तरह से खेलता हूं।

आपके दोस्‍त कौन-कौन हैं और पूरे जीवन में उनका सहयोग किस प्रकार का रहा?

सच कहूं तो मेरा कोई बेस्‍ट फ्रेंड नहीं है। कोई दोस्‍त भी नहीं, हमेशा अकेले रहता हूं और सिर्फ मां ही मेरे लिए सबकुछ हैं।

आपको भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बतौर प्रधानमंत्री कैसे लगते हैं?

मुझे राजनीति में किसी भी तरह की कोई रुचि नहीं है। इसके साथ ही अगर भविष्‍य में भी किसी राजनैतिक दल की तरफ से नेता या चुनाव लड़ने का कोई कहता है तो साफ इंकार कर दूंगा। राजनीति में कोई रुचि नहीं रखनी।

यह भी पढ़ें : अफजल गुरु के बेटे ने मैट्रिक में 19वां स्थान हासिल किया

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket