नई दिल्ली। अर्धसैनिक बलों के बाद सेना के तीन अंगों में प्रमुख वायुसेना भी महिलाओं को मोर्चे पर (कांबैट) लगाने को तैयार है। वायुसेनाध्यक्ष एयर चीफ मार्शल अरूप राहा ने बताया कि इस बाबत जरूरी प्रक्रियाओं को पूरा करने में फिलहाल कुछ वक्त लगेगा। एक पत्रिका को दिए साक्षात्कार में अरूप राहा ने कहा कि वायुसेना की कई शाखाओं में शॉर्ट सर्विस कमीशन (एसएससी) के तौर पर महिलाओं की नियुक्ति शुरू की जा चुकी है। उनके मुताबिक महिला पायलटों की मोर्चे पर तैनाती की संभावनाएं काफी उज्ज्वल हैं।

हालांकि, वायुसेनाध्यक्ष ने बताया कि महिलाओं को लड़ाकू दस्ते में शामिल करने संबंधी सारी प्रक्रियाओं को पूरा करने में अभी वक्त लगेगा। वायुसेना को इसके लिए रक्षा मंत्रालय से भी अनुमति लेनी पड़ेगी। अरूप राहा ने स्पष्ट संकेत दिया है कि इस बाबत संभवतः कोई फैसला लिया जा चुका है, जिसकी घोषणा जल्द ही कर दी जाएगी। उल्लेखनीय है कि सेना के तीनों अंगों (सेना, वायुसेना और नौसेना) में महिलाओं को सीमा के समीप सक्रिय ड्यूटी पर नहीं लगाया जाता है।

एक और सी-130जे सुपर हरक्युलिस खरीदेगी वायुसेना

वायुसेना ने एक और सी-130जे सुपर हरक्युलिस विमान (मीडियम लिफ्ट) खरीदने का फैसला लिया है। बारह विमानों की खरीद के लिए वायुसेना पहले ही अमेरिकी विमान निर्माता कंपनी लॉकहीड मार्टिन से करार कर चुकी है। वायुसेना प्रमुख अरूप राहा ने बताया कि इस साल मार्च में दुर्घटनाग्रस्त हुए सुपर हरक्युलिस के बदले एक और विमान खरीदने का फैसला किया गया है।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना