बेंगलुरु। अक्सर इंसान को गुंडों और अपराधियों की वजह से परेशानी का सामना करना पड़ता है और तकलीफ भी उठानी पड़ती है। ऐसे में उम्मीद की जाती है कि पुलिस पीड़ित की मदद करेगी लेकिन कई मामलों में ऐसा होता नहीं। तब अपराधियों द्वारा दी गई तकलीफ से ज्यादा पीड़ा इस बात से होती है कि पुलिस ने साथ नहीं दिया। ऐसा ही कुछ हुआ है बेंगलुरु में जहां एक एयर होस्टेस के साथ तीन युवकों ने बेवजह मारपीट कर दी और जब वो पुलिस के पास पहुंची तो उसका व्यवहार युवकों द्वारा की गई मारपीट से ज्यादा दुख देने वाला था।

जानकारी के अनुसार , 26 साल की एयर होस्टेस और उसके पुरुष मित्र पर कुछ लोगों ने नागेनहाली इलाके में हमला कर दिया। घटना 8 जनवरी की है जिसके बाद दोनों येलहांका न्यू टाउन पुलिस थाने पहुंचे। इसके बाद पुलिस ने इस मामले में एनसीआर के तहत लिया और पीड़िता को कहा कि वो इंतजार करे क्योंकि पहले यह पता लगाना पड़ेगा कि आरोपी थे कौन।

पीड़िता पेट्रीस मंजेला, थानीसंद्रा इलाके की रहने वाली है और एयर होस्टेस है। उसे चेहरे और हाथ पर काफी चोट के निशान थे। पीड़िता के अनुसार 8 जनवरी को मैं अपने दोस्‍त मिनाज के साथ मेरे नए अपार्टमेंट को देखने के लिए जा रहे थे। रात के 8 बजे थे तभी एक स्कूटर ने हमारी कार रोक दी। स्कूटर वाला स्थानीय भाषा में कुछ कह रहा था। हमें उसकी भाषा नहीं आती थी इसलिए कुछ समझ नहीं पाए। वो मुझे देख रहा था इसलिए मैं कार से बाहर आई और कहा कि मैं उसकी बात नहीं समझ पा रही हूं। मैंने उससे हिंदी या अंग्रेजी में बोलने को कहा तो वो अपशब्द कहने लगा। इसके बाद मेरा मित्र बाहर आया। इस बीच दो और लोग आ गए और हमें पीटने लगे।

इस बीच भीड़ होने लगी और मैंने उनकी गाड़ी की तस्वीर खींच ली। इसके बाद हमने 100 नंबर पर पुलिस को कॉल किया। पुलिस को मौके पर पहुंचने में 40 मिनट लग गए। अस्पताल में इलाज के बाद हम थाने पहुंचे जहां मैंने पुलिस को फोटोग्राफ्स दिए और घटना बताई। वहां मौजूद ऑफिसर ने कहा कि पहले वो आरोपियों को ढूंढेंगे फिर एफआईआर दर्ज करेंगे।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket