नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के बाद कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा अपने पद से इस्तीफा दे दिया गया है। इसके बाद ये पहला मौका है जब कांग्रेस की कमान संभालने वाला अब गांधी परिवार से जुड़ा कोई भी व्यक्ति नहीं हैं। राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद से ही पार्टी उन्हें लगातार मनाने की कोशिश करती रही, लेकिन नतीजा नहीं निकल सका। अब पार्टी को एक नए राष्ट्रीय अध्यक्ष की तलाश है, इस बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और लालबहादुर शास्त्री के बेटे अनिल शास्त्री ने कांग्रेस और गांधी परिवार को लेकर बड़ी बात कही है।

अनिल शास्त्री ने कांग्रेस पार्टी की पतवार को संभालने के लिए गांधी परिवार के एक सदस्य का होना जरुरी बताया है। उन्होंने कहा कि ऐसा ना होने की सूरत में पार्टी के पतन को नहीं रोका जा सकेगा। उन्होंने कहा कि अगर गांधी परिवार के सदस्य के हाथों में पार्टी की कमान नहीं रही तो कांग्रेस का हाल भी एनसीपी, टीएमसी जैसी क्षेत्रीय पार्टियों जैसा हो जाएगा।

शास्त्री ने कहा कि पार्टी में गांधी परिवार जितनी स्वीकार्यता किसी की भी नहीं है, ऐसे में उन्होंने प्रियंका गांधी को अगला राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए जाने की वकालत भी की। उन्होंने आशंका जताई है कि ऐसा नहीं होता है तो पार्टी में ही एक वर्ग विरोध में खड़ा हो सकता है, जिससे पार्टी का विघटन होना निश्चित है।

उन्होंने गांधी परिवार के हाथ में कमान ना होने पर कहा कि ऐसी भी आशंका है कि महाराष्ट्र, हरियाणा और मध्यप्रदेश में क्षेत्रीय कांग्रेस का उदय हो जाए।

राहुल गांधी 2017 में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बने थे। फिलहाल वे केरल की वायनाड लोकसभा सीट से सांसद हैं। उन्होंने 23 मई को लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद 25 मई को हुई कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में अपना इस्तीफा देने की पेशकश की थी।