स्वदेशी वैक्सीन उत्पादक कंपनी भारत बायोटेक ने दावा किया है कि उसका कोरोना रोधी टीका वयस्कों और बच्चों दोनों पर समान रूप से प्रभावी है। कंपनी कोवैक्सीन के नाम से कोरोना रोधी वैक्सीन बनाती है। इससे पहले कंपनी ने दावा किया था कि उसकी वैक्सीन कोरोना के डेल्टा और ओमिक्रोन दोनों वैरिएंट के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करती है। भारत बायोटेक ने एक बयान में कहा, "एमोरी विश्वविद्यालय में किए गए एक अध्ययन के नतीजे बताते हैं कि कोवैक्सीन की दोनों प्राथमिक डोज लेने के छह महीने बाद उसकी बूस्टर डोज लेने वाले लोगों के सीरा ने सार्स-सीओवी-2 के ओमिक्रोन और डेल्टा दोनों वैरिएंट को निष्क्रिय कर दिया।"

बयान में इसका भी उल्लेख किया है कि पहले के अध्ययन में भी पाया गया था कि कोवैक्सीन सार्स-सीओवी-2 के अल्फा, बीटा, डेल्टा, ओमिक्रोन, जेटा और कप्पा वैरिएंट को बेअसर करने में सक्षम है। हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक ने कहा है कि उसकी वैक्सीन अब वयस्कों और बच्चों के लिए सार्वभौमिक वैक्सीन बन गई है। कंपनी ने कोरोना वायरस के खिलाफ एक वैश्विक वैक्सीन विकसित करने के लक्ष्य को हासिल कर लिया है। लाइसेंस के लिए सभी उत्पाद विकास को पूरा कर लिया गया है।

कोरोना से मौतों के मामले में कुछ राहत

कोरोना महामारी की तीसरी लहर में संक्रमितों की तेजी से बढ़ती संख्या तो डरा रही है, लेकिन मौत के मामलों में कुछ राहत है। पिछले एक दिन में 315 लोगों की जान गई है। दूसरी लहर में यानी पिछले साल अप्रैल-मई में जब प्रतिदिन दो लाख से ज्यादा नए मामले मिल रहे थे तब रोज डेढ़ हजार से ज्यादा मौतें हो रही थीं। इस समय मृत्युदर में लगातार गिरावट देखने को मिल रही है जो अभी 1.33 प्रतिशत है।

Posted By: Navodit Saktawat