नई दिल्ली। पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली रविवार 25 अगस्त को पंचतत्व में विलीन हो गए। राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया। बेटे रोहन ने अरुण जेटली को मुखाग्नि दी। इस दौरान वहां तेज आंधी और बारिश आ गई। मानो लगा कि प्रकृति भी उनके जाने से गमगीन हो गई हो।

उनकी शवयात्रा भाजपा मुख्यालय से निकलकर करीब एक बजे निगमबोध घाट पहुंच गई थी। यहां उनके अंतिम संस्कार की प्रक्रिया की जा रही थी। निगम बोध घाट पर उनके राजनीतिक साथी और विरोधी दोनों ही मौजूद थे। इस दौरान उप राष्ट्रपति एम वैंकैया नायडू, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और जेपी नड्डा सहित भाजपा के कई नेता वहां मौजूद थे।

उनका पार्थिव शरीर एक तोपगाड़ी में रखा गया था, जिसको सेना के एक ट्रक से खीचा जा रहा था। ट्रक पर उनके पुत्र और परिवार के दूसरे खास सदस्यों के साथ कुछ वरिष्ठ भाजपा नेता सवार थे। राजधानी की प्रमुख रास्तों से गुजरती हुई अंतिम यात्रा निगमबोध घाट की ओर धीरे-धीर बढ़ रही थी। रास्ते में हर कोई अपने प्रिय नेता को विदाई देने के लिए खड़ा था। अंतिम यात्रा के साथ बड़ी संख्या में भाजपा नेता और शुभचिंतक चल रहे थे।

बताते चलें कि एम्स में 9 अगस्त से भर्ती पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का शनिवार को दोपहर 12.17 बजे निधन हो गया। अरुण जेटली का पार्थिव शरीर बीजेपी मुख्यालय में अंतिम दर्शन के लिए रखा गया था। एक बजे तक भाजपा मुख्यालय में उनके अंतिम दर्शन पुए। उनका पार्थिव शरीर घर से भाजपा मुख्यालय के लिए सुबह करीब 9.30 बजे रवाना हो चुका था।

-केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली को पार्टी मुख्यालय में श्रद्धांजलि अर्पित की।

-पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के पार्थिव शरीर को रविवार सुबह जनता दर्शन के लिए भाजपा मुख्यालय में ले जाया गया। पार्टी सूत्रों ने बताया कि भाजपा मुख्यालय में पार्थिव शरीर को दोपहर 2 बजे तक रखा जाएगा। इसके बाद अंतिम संस्कार के लिए निगमबोध घाट के लिए ले जाया जाएगा।

-अरुण जेटली की अंतिम यात्रा घर से निकल चुकी है और 11 बजे उनका पार्थिव शरीर भाजपा मुख्यालय में रखा जाएगा। सेना के ट्रक में उनके शव को ले जाया जा रहा है।

इस बीच भाजपा और कांग्रेस समेत कई बड़े नेताओं ने जेटली के घर पर पहुंचकर अंतिम दर्शन किए और श्रद्धांजलि दी। वरिष्ठ कांग्रेसी नेता मोतीलाल वोहरा, एनसीपी नेता शरद पवार और प्रफुल पटेल, आरजेडी नेता अजीत सिंह और आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने अरुण जेटली के घर पर पहुंच कर उन्हें श्रद्धांजलि दी।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और राहुल गांधी पहुंचे अरुण जेटली के घर, जहां पूर्व वित्त मंत्री को श्रद्धांजलि दी।

He attracted friends across political spectrum: Sonia Gandhi writes to Arun Jaitley's wife

- उपराष्‍ट्रपति वेंकैया नायडू ने अरुण जेटली के घर पर पहुंच कर श्रद्धांजलि दी।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली को श्रद्धांजलि अर्पित की।

भारतीय जनता पार्टी के लिए यह दूसरा बड़ा झटका है। अभी कुछ ही दिनों पहले पूर्व विदेश मंत्री रही सुषमा स्वराज ने भी अपनी देह त्याग दी थी।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai

fantasy cricket
fantasy cricket