नई दिल्ली (ब्यूरो)। आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने 28 दिसंबर को दिल्ली के मुख्यमंत्री के रूप में पद व गोपनीयता की शपथ लेकर इतिहास रच दिया। दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग ने केजरीवाल के साथ छह मंत्रियों को भी पद व गोपनीयता की शपथ दिलाई। इससे पहले अरविंद केजरीवाल मेट्रो ट्रेन से कौशांबी से बाराखंभा व ‍वहां से खुली जीप में रामलीला मैदान पहुंचे।

उपराज्यपाल नजीब जंग ने दिन के 12 बजे अरविंद केजरीवाल को मुख्यमंत्री के रूप में शपथ दिलाई। उनके साथ मनीष सिसौदिया, सोमनाथ भारती, सत्येंद्र जैन, राखी बिरला, गिरीश सोनी व सौरभ भारद्वाज को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई।

मेट्रो व जीप से पहुंचे

इससे पहले केजरीवाल करीब 11 बजे कौशांबी से मेट्रो ट्रेन से बाराखंभा पहुंचे। वे जिस मेट्रो में सवार थे, उसमें उनके समर्थकों की भारी भीड़ थी। आलम यह था कि मेट्रो से जाने वाले आम आदमी को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। मेट्रो हर स्टेशन पर रुक जरूर रही थी, लेकिन उसमें कोई भी सवार नहीं हो पा रहा था। मेट्रो में बातचीत करते हुए मनीष सिसोदिया ने कहा कि हम पहले दिन से ही काम करेंगे। आप की सरकार बनने से आम आदमी की आंखों में चमक झलक रही है, वहीं भ्रष्ट अधिकारियों में खौफ है।

समर्थकों की भीड़

कौशांबी मेट्रो स्टेशन जाने से पहले केजरीवाल के घर के बाहर काफी भीड़ थी, इसलिए वे अपने घर के पिछले दरवाजे से निकले। कुछ दूर तक वह पैदल गए और फिर गाड़ी से मेट्रो स्टेशन पहुंचे। वहां पर भी उनके के समर्थकों की भारी भीड़ जुटी थी और जिंदाबाद के नारे लग रहे थे। मेट्रो स्टेशनों पर पुलिस ने सुरक्षा कड़ी कर दी है। उधर रामलीला मैदान में भी समर्थकों का हुजूम है। भाजपा के डॉ. हर्षवर्धन भी शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने रामलीला मैदान पहुंच चुके हैं।

लाखों लोग शामिल होंगे

इस शपथ ग्रहण समारोह में करीब एक लाख लोगों के शामिल होने की उम्मीद है। केजरीवाल ने इस समारोह में शामिल होने के लिए सभी दिल्लीवासियों को न्योता भेजा है। वहीं, भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन में उनके साथ रहे समाजसेवी अन्ना हजारे को भी केजरीवाल ने शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए न्योता भेजा था, लेकिन अन्ना हजारे की तबीयत खराब होने की वजह से वे शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हो पाएंगे। इस बाबत अन्ना हजाने ने केजरीवाल को चिट्ठी लिखकर यह कहा कि खराब स्वास्थ्य के कारण वे शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं हो पाएंगे, लेकिन उनकी शुभकामनाएं साथ हैं।

नहीं लेंगे सुरक्षा

दिल्ली के भावी मुख्यमंत्री ने साफ किया है कि वह किसी भी तरह की कोई सुरक्षा नहीं लेंगे। उन्होंने कहा कि शपथ ग्रहण समारोह में उनका परिवार और सभी विधायकों का परिवार आम जनता के बीच एक आम आदमी की ही तरह बैठेगा। किसी को भी कोई वीआईपी ट्रीटमेंट नहीं मिलेगा।

Posted By: