जोधपुर। नाबालिग से यौन दुराचार के मामले में जोधपुर की सेंट्रल जेल में सजा काट रहे आसाराम ने कोविड उपचार के लिए जमानत अर्जी पेश की है। आसाराम की कोरोना जांच में पॉजिटिव की पुष्टि हुई है और वह जोधपुर एम्स में भर्ती है। आसाराम ने हरिद्वार में आयुर्वेदिक उपचार के लिए राजस्थान उच्च न्यायालय से जमानत मांगी है। हाईकोर्ट ने एम्स प्रशासन से इस संबंध में रिपोर्ट देने के लिए कहा है। मामले में अगली सुनवाई 13 मई को होगी।इस माह के विगत बुधवार को आसाराम को श्वास में तकलीफ की शिकायत पर जोधपुर की सेंट्रल जेल से महात्मा गांधी अस्पताल लाया गया था जहां जांच के बाद उन्हें आईसीयू में शिफ्ट कर दिया गया था। 24 घंटे आईसीयू में बिताने के बाद उन्हें जोधपुर के भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स में रेफर कर दिया गया था। जहां उनका इलाज जारी है। 83 वर्षीय आसाराम की कोविड रिपोर्ट पाजिटिव आई है।

न्यायाधीश संदीप मेहता और देवेंद्र कच्छवाहा की अदालत में आसाराम के वकील प्रदीप चौधरी ने सजा निलंबन और अंतरिम जमानत के लिए आवेदन करते हुए कहा कि आसाराम कई बीमारियों से पीड़ित है और उन्हें कोरोना बीमारी के इलाज के लिए एम्स-जोधपुर में भर्ती कराया गया है।ऐसे में वह आयुर्वेदिक उपचार के लिए हरिद्वार में अपना इलाज चाहते है,जिसके लिए उन्हें दो माह की अंतरिम जमानत दी जाए। अदालत ने मामले को अगली सुनवाई के लिए 13 मई को होगी। अपने ही गुरुकुल में पढ़ने वाली नाबालिग छात्रा से यौन दुराचार के मामले में आसाराम वर्ष 2013 से जोधपुर जेल में है जहां वर्ष 2018 में आसाराम को जीवन की अंतिम सांस तक जेल में रहने का आदेश अदालत द्वारा सुनाया गया है।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags