Assam Floods: असम की बाढ़ ने विकराल रूप ले लिया है। बड़े पैमाने पर लोग प्रभावित हुए हैं और जन जीवन प्रभावित हो चुका है। अभी तक 24,749 लोगों को बचाया गया है और 499 राहत शिविर चल रहे हैं। राज्य के 32 जिलों की करीब 8.40 लाख आबादी प्रभावित हो चुकी है। असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अनुसार असम में बाढ़ की स्थिति गंभीर बनी हुई है क्योंकि 22 जिलों में करीब 7.20 लाख लोग बाढ़ की चपेट में हैं। राज्य में बाढ़ और भूस्खलन से कुल 24 लोगों की मौत हुई है। अब भारतीय वायु सेना (आइएएफ) ने रविवार को हेलीकाप्टर की मदद से असम के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में अपने राहत कार्यों को जारी रखा। आइएएफ ने ट्वीट किया कि असम में बाढ़ के कारण कटे हुए क्षेत्रों में नागरिकों को निकालने और राहत सामग्री पहुंचाने के प्रयास जारी हैं। इस कार्य के लिए अपने परिवहन विमान और हेलीकाप्टर तैनात किए हैं।

इन हेलीकॉप्‍टर्स की तैनाती

भारतीय वायुसेना ने एएन-32 परिवहन विमान, दो एमआइ-17 हेलीकाप्टर, एक चिनूक हेलीकाप्टर और एक एएलएच ध्रुव को तैनात किया है। शनिवार को एमआइ-17 हेलीकाप्टरों की मदद से दितोकचेरा रेलवे स्टेशन पर फंसे 119 यात्रियों को निकाला गया।

अभी तक 24 हजार लोगों को सुरक्षित निकाला

भारतीय सेना, राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ), राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) और स्वयंसेवकों की मदद से अब तक 24,749 फंसे हुए लोगों को बचाया जा चुका है। एनडीआरएफ इंस्पेक्टर महीप मौर्य के अनुसार बचाव अभियान के लिए तैनात टीमों ने होजई जिले के बाढ़ प्रभावित गांवों से पांच सौ लोगों को बचाया है। मौर्य ने कहा कि कई लोग अपना घर नहीं छोड़ना चाहते थे। इसलिए हमने उनके घरों पर राहत और राशन सामग्री पहुंचाई।

499 सहायता शिविर और 519 राहत सामग्री वितरण केंद्र

असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) की रिपोर्ट के मुताबिक बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में 499 सहायता शिविर और 519 राहत सामग्री वितरण केंद्र खोले गए हैं। 92 हजार से अधिक लोग इन शिविरों में रह रहे हैं। राज्य में के 32 जिलों के करीब साढ़े बत्तीस सौ गांवों के आठ लाख 40 हजार लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं।

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close