Assam Floods: असम में बाढ़ और भूस्खलन का कहर जारी है। पिछले 24 घंटों में राज्य में दो बच्चों समेत 7 की मौत हो गई। बचावकर्मियों ने अबतक 2 लाख 84 हजार 875 लोगों को राहत शिविरों में पहुंचाया। प्रदेश के 35 जिलों में से 30 जिले भीषण बाढ़ की चपेट में है। असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अनुसार अबतक 107 लोगों की जान जा चुकी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार असम पर नजर बनाए हुए हैं। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, 'पिछले कुछ दिनों में असम के कुछ इलाकों में भारी बारिश के कारण बाढ़ आ गई है। केंद्र सरकार असम में स्थिति की लगातार निगरानी कर रही है। इस चुनौती से निपटने के लिए हर संभव सहायता प्रदान करने के लिए प्रदेश सरकार के साथ मिलकर काम कर रही है।'

पीएम मोदी ने किया ट्वीट

पीएम मोदी ने कहा कि बाढ़ प्रभावित इलाकों में सेना और एनडीआरएफ की टीमें मौजूद हैं। वे निकासी अभियान चला रहे हैं। वह प्रभावित लोगों की सहायता कर रहे हैं। निकासी प्रक्रिया के तहत वायुसेना ने 250 से अधिक उड़ाने भरी हैं। उन्होंने कहा, 'असम सरकार के मंत्री और अधिकारी जिलों में चौबीसों घंटे काम कर रहे हैं और पीड़ित लोगों की मदद कर रहे हैं। मैं प्रभावित क्षेत्रों में सभी लोगों की सुरक्षा और भलाई के लिए प्रार्थना करता हूं। एक बार फिर हर संभव सहायता का आश्वासन देता हूं।'

स्कूलों में ग्रीष्मकालीन अवकाश टला

वहीं राज्य के शिक्षा विभाग ने स्कूलों में ग्रीष्मकालीन अवकाश एक हफ्ते के लिए टाल दिया है। शिक्षा विभाग के सचिव भारत भूषण देव चौधरी ने एक अधिसूचना जारी की। कहा कि अवकाश 25 जून से शुरू होकर 25 जुलाई को समाप्त होगा। उन्होंने कहा, कई स्कूलों को राहत शिविरों के रूप में नामित किया जा रहा है। बाढ़ के कारण बड़ी संख्या में स्कूल प्रभावित और क्षतिग्रस्त हुए हैं। स्कूलों को बंद करने से अकादमिक नुकसान हुआ है।

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close