नई दिल्ली। हरियाणा और महाराष्ट्र के विधानसभा चुनावों के प्रचार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा अनुच्छेद 370 का मुद्दा जोर-शोर से उठाए जाने पर कांग्रेस ने शनिवार को पलटवार किया। वरिष्ठ कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने यहां पार्टी मुख्यालय में एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा- 'प्रधानमंत्री जहां भी जाते हैं, सिर्फ (अनुच्छेद) 370 को याद करते हैं। उन्हें (मोदी) नहीं मालूम कि पाकिस्तान का जब विभाजन हुआ तो यह किसने किया। वे हम (कांग्रेस) ही थे, जिन्होंने पाकिस्तान को विभाजित किया। तब आप (मोदी) कहां थे?'

उन्होंने कहा किप्रधानमंत्री मोदी को हरियाणा के लोगों को यह जरूर बताना चाहिए कि कांग्रेस के कारण ही पाकिस्तान का अभिन्न हिस्सा उससे अलग हुआ। यह तो कांग्रेस के ही राज में हुआ। इसके लिए कांग्रेस की सराहना होनी चाहिए लेकिन आप में ऐसा करने की हिम्मत नहीं।


सिब्बल ने कहा- 'आप सिर्फ अनुच्छेद 370 को याद करते हैं लेकिन आपको अपने संवैधानिक दायित्व याद नहीं हैं। करीब 93 फीसदी बच्चों को उचित पोषण नहीं मिल रहा है और आपका पूरा फोकस अनुच्छेद 370 पर है। आप ऐसा विधानसभा चुनावों की वजह से कर रहे है... आपको लोगों की परेशानी नहीं मालूम।'

कांग्रेस नेता ने प्रधानमंत्री मोदी तथा भाजपा अध्यक्ष व केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की उनके उन बयानों के लिए भी आलोचना की, जिनमें कहा गया कि अनुच्छेद 370 के कारण जम्मू-कश्मीर विकास में पिछड़ गया। उन्होंने गरीबी, शिशु मृत्य दर, बेरोजगारी, उच्च शिक्षा में दाखिले तथा मानव संसाधन सूचकांक के मामले में हरियाणा, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश तथा गुजरात के आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा कि इन राज्यों में तो अनुच्छेद 370 नहीं था लेकिन इन सभी क्षेत्रों में जम्मू-कश्मीर के आंकड़े बेहतरहैं।

उन्होंने यूएस कस्टम्स एंड बॉर्डर प्रोटेक्शन की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि पिछले तीन वर्षों में अवैध रूप से अमेरिका में प्रवेश करने की कोशिशों में पकड़े गए भारतीयों की संख्या तीन गुना बढ़ गई है। इसका मतलब है कि देश बहुत सारे ऐसे गरीब लोग हैं, जो रोजगार की तलाश में देश छोड़ रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी को इसका जवाब देना चाहिए कि ऐसा क्यों हो रहा है, जबकि आप साढ़े पांच साल से देश चला रहे हैं।

सिब्बल ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने 15 अक्टूबर को कहा है कि पूर्व विकास दर का अनुमान 7 फीसदी था, जो आज घटकर 6.1 फीसदी रह गया है। हमारी अर्थव्यवस्था गहरे संकट में है। विश्व बैंक ने भी 13 अक्टूबर को कहा कि पूर्व में घोषित 6.8 फीसदी विकास दर की तुलना में यह सिर्फ 6 फीसदी ही दर्ज होगी। उन्होंने कहा- 'पीयूष गोयल (रेल व वाणिज्य मंत्री) कहते हैं कि कोई आर्थिक मंदी नहीं है और नोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी वामपंथी विचार वाले हैं। तो क्या आईएमएफ,विश्व बैंक तथा अन्य अंतरराष्ट्रीय एजेंसियां भी वामपंथी झुकाव वाले हैं।'

Posted By: Arvind Dubey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020