Asteroid Alert: समय समय पर धूमकेतु धरती के लिए खतरा बनते रहे हैं। ऐसी ही स्थिति आगामी 29 नवंबर को हो रही है। अमेरिकी अंतरिक्षण एजेंसी नासा ने पता लगाया है कि एक विशालकाय उल्कापिंड धरती की तरफ बढ़ रहा है। इसका आकार दुनिया की सबसे ऊंची दुबई की मशहूर बिल्डिंग बुर्ज खलिफा जितना बड़ा है। यह उल्कापिंड मिसाइल से कई गुना तेज गति से बढ़ रहा है, लेकिन इस बात की जरा भी आशंका नहीं है कि यह धरती से टकराएगा। नासा के मुताबिक, 29 नंवबर की रात यह उल्कापिंड धरती से कुछ हजार किमी दूर से गुजरेगा। अभी इसकी गति 90000 किमी प्रति घंटा है।

नासा लंबे समय से इस उल्कापिंड पर नजर रखे हुए है। इस उल्कापिंड को 153201 2000 WO107 नाम दिया गया है। इसका आकार 820 मीटर है, जबकि बुर्ज खलीफा की ऊंचाई 829 मीटर है। मिसाइल की औसत गति 4000 किमी प्रति घंटा होती है। वहीं बंदूक की गोली साढ़े चार हजार किमी प्रति घंटा की रफ्तार से चलती है। इस लिहाज से इस उल्कापिंड की गति बहुत अधिक है। नासा ने इसे नियर अर्थ ऑब्जेक्ट की श्रेणी में रखा है यानी यह धरती के करीब से जरूर गुजरेगा, लेकिन टकराने की आशंका नहीं है। इस तरह खगोलशास्त्रियों ने एक बार फिर राहत की सांस ली है। बता दें, इस साल कई खतरनाक धुमकेतू धरती के करीब से गुजर चुके हैं। गनिमत यह रही कि कोई धरती से टकराया नहीं।

भारत में घटी हैं अजीब घटनाएं

हाल के वर्षों में भारत के अलग अलग इलाकों में अजीब घटनाएं घटी हैं, जिन्हें उल्कापिंड से जोड़कर देखा जा रहा है। मसलन इसी साल जून में राजस्थान में एक अजीबो-गरीब नजारा देखा गया था। यहां सुबह-सुबह आसमान में एक चमकदार वस्तु गिरती नजर आई जिसे देखने के बाद लोग हैरान रह गए थे। यह असल में एक उल्कापिंड था जो की राज्य के जालोर जिले के सांचौर कस्बे में जाकर गिरा था। वहीं चार साल पहले सर्जिकल स्ट्राइल के बाद श्रीनगर में हालात तनावपूर्ण थे। लोगों में दहशत का माहौल था, तभी उल्कापिंड की घटना को लोगों ने मिसाइल अटैक मान लिया था।

Posted By: Arvind Dubey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Makar Sankranti
Makar Sankranti