Sunni Waqf Board: उत्तर प्रदेश सुन्नी वक्फ बोर्ड ने सोमवार को बड़ा फैसला लेते हुए तय किया कि वह सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा दी जाने वाली 5 एकड़ जमीन स्वीकार करेगा। इस जमीन पर मस्जिद के साथ ही अस्पताल और लायब्रेरी बनाई जाएगी। लखनऊ में Sunni Waqf Board की बैठक सुबह 11.30 बजे शुरू हुई और 2.30 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस फैसला की आधिकारिक सूचना दी गई। बैठक में Sunni Waqf Board के छह सदस्यों ने हिस्सा लिया।

यह था बैठक का एजेंडा

1. सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर अयोध्या में मस्जिद बनाने के लिए सरकार द्वारा दी गई जमीन स्वीकार करना या नहीं

2. इस बात पर भी फैसला करना कि सरकार द्वारा दी जाने वाली जमीन पर मस्जिद ही बनेगी या कुछ और।

यह था सुप्रीम कोर्ट का फैसला

बता दें, सुप्रीम कोर्ट में बीते साल 9 नवंबर को अयोध्या मामले में फाइनल सुनवाई हुई थी। सर्वोच्च अदालत ने अपना फैसला सुनाते हुए कहा था कि विवादित भूमि राम लाल की है, इसलिए वहां राम मंदिर बनेगा और सुन्नी वक्फ बोर्ड को मस्जिद के लिए अयोध्या में पांच एकड़ जमीन दी जाएगी। इस आदेश का पालन करते हुए योगी आदित्यनाथ कैबिनेट ने इस साल 5 फरवरी को अयोध्या-लखनऊ राजमार्ग पर सुन्नी वक्फ बोर्ड को 5 एकड़ जमीन देने का फैसला किया था।

आगे के फैसलों के लिए बनेगा ट्रस्ट

Sunni Waqf Board के अध्यक्ष जुफर फारूकी राज्य सरकार द्वारा अयोध्या में मस्जिद निर्माण के लिए दी गई जमीन लेने के मुद्दे पर पहले ही कह चुके हैं कि वह इसे लेने से इन्कार नहीं कर सकते। सोमवार को हुई बैठक में फैसला लिया गया है कि ट्र्स्ट बनाकर आगे की नीति तय की जाएगी। यह ट्रस्ट मस्जिद निर्माण के साथ ही वहां शैक्षिक व सामाजिक गतिविधियां संचालित करेगा। इस ट्रस्ट का नाम इंडो इस्लामिक कल्चर फाउंडेशन रखे जाने की चर्चा है।

Posted By: Arvind Dubey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020