नई दिल्‍ली। अयोध्‍या मसले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला जरूर आ गया है और देश में कहीं भी शांति भंग नहीं हुई है, लेकिन अहतियात के तौर पर सरकार चौकन्‍नी होकर सतर्कता बरत रही है। अयोध्या मामले में फैसला सुनाने वाले सुप्रीम कोर्ट के पांचों जजों की सुरक्षा और बढ़ा दी गई है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया- 'ऐहतियात के तौर पर माननीय जजों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। हालांकि किसी भी जज पर कोई विशेष खतरा नहीं है।" मालूम हो कि प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच जजों की संविधान पीठ ने शनिवार को फैसला सुनाया था। पीठ में जस्टिस एसए बोबडे, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, ए. भूषण तथा एसए नजीर शामिल थे। सुरक्षा ड्रील के तहत इन जजों के आवासों पर अतिरिक्त बलों की तैनाती के साथ ही उधर जाने वाली सड़कों पर बैरिकेडिंग की गई है। वैसे, जजों के घरों पर पहले से भी सुरक्षा गार्ड तैनात थे। लेकिन अब जजों की गाड़ियों के साथ सशस्त्र मोबाइल एस्कॉर्ट भी लगाई गई है।

उप्र में सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट के मामले में 37 गिरफ्तार

दूसरी ओर, सुरक्षा की कवायद के मद्देनजर उत्तर प्रदेश में सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट करने के मामले में 37 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। बारह केस भी दर्ज हुए हैं। लखनऊ के एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि सोशल मीडिया पर 'अनुचित टिप्पणी" तथा धमकी वाली भाषा लिखने के मामले में शहर में भी एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि पुलिस ने नागरिकों से सोशल मीडिया का दुरुपयोग नहीं करने की अपील की है। राज्य के अन्य हिस्सों में भी पटाखे फोड़ने या जश्न में मिठाई बांटने के दौरान परेशानी पैदा करने के आरोप में सात लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020