नई दिल्ली। अयोध्या जमीन विवाद में अपने फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव की अयोध्या यात्रा का भी उल्लेख किया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि गुरु नानक देव ने राम जन्मभूमि का दर्शन करने के लिए सन 1510-11 में अयोध्या की यात्रा की थी। उनकी इस यात्रा से हिंदुओं की इस आस्था और विश्वास को बल मिलता है कि विवादित भूमि ही प्रभू श्रीराम का जन्मस्थान है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जन्म साखी में इस बात का उल्लेख है कि गुरु नानक देव जी अयोध्या की यात्रा पर गए थे और राम जन्मभूमि का दर्शन किया था। जन्म साखी को सुप्रीम कोर्ट में रिकॉर्ड पर रखा गया है। प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच जजों की संविधान पीठ ने कहा कि एक जज ने अपनी टिप्पणी में गुरु नानक देव की अयोध्या यात्रा का हवाला दिया है। जज ने कहा है कि इसको लेकर ठोस तथ्य तो मौजूद नहीं है कि भगवान राम का जन्म किस स्थान पर हुआ था। लेकिन गुरु नानक देव का राम जन्मभूमि का दर्शन करने आयोध्या जाने की घटना से स्पष्ट है कि सन 1528 से पहले वहां राम जन्मभूमि का अस्तित्व था और श्रद्धालु उस स्थान पर दर्शन करने जाते थे।

पीठ ने इस बात पर गौर करने वाले जज के नाम का उल्लेख नहीं किया है। गौरतलब है सुप्रीम कोर्ट में बताया गया था कि मुगल सम्राट बाबर ने 1528 में अयोध्या में बाबरी मस्जिद की तामीर करवाई थी। जज ने यह भी कहा कि वाल्मीकि रामायण और स्कंद पुराण में भी अयोध्या का उल्लेख भगवान राम की जन्मभूमि के रूप में किया गया है। हिंदुओं की आस्था और विश्वास के समर्थन में इन धार्मिक ग्रंथों के तथ्यों को भी किसी भी तरह से आधारहीन नहीं ठहराया जा सकता है। इलाहाबाद हाई कोर्ट में भी इस मामले की सुनवाई के दौरान वाद नंबर चार के एक गवाह ने सिख धर्मग्रंथों का उल्लेख करते हुए कहा था कि गुरु नानक देव जी राम जन्मभूमि का दर्शन करने के लिए अयोध्या पधारे थे। उसने भी उनके अयोध्या जाने का वक्त सन 1510-11 ही बताया था। उक्त गवाह ने अपने बयान के समर्थन में विभिन्न जन्म साखियों में मौजूद तथ्यों को भी कोर्ट में प्रस्तुत किया था, जिनमें गुरु नानक देव जी के अयोध्या जाने का उल्लेख था।

अयोध्या की पहचान ही प्रभू राम से है

सिख धर्म के जानकार, चिंतक और लेखक डॉ. सत्येंद्र पाल सिंह कहते हैं कि अयोध्या की पहचान सिर्फ श्रीराम से है। उनका कहना है कि नौ नवंबर को अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट का निर्णय आना और आज ही करतारपुर कॉरिडोर का उदघाटन महज एक संयोग नहीं, बल्कि एक सनातन सत्य का सिद्ध होना है। डॉ. सिंह के अनुसार गुरु नानक देव जी जब अपनी धर्म यात्राओं के क्रम में नानकमत्ता, गोला होते हुए जल मार्ग से अयोध्या पहुंचे थे, उस समय उन्होंने अपने साथ चल रहे भाई मरदाना जी का अयोध्या से परिचय श्रीराम चंद्र जी के नगर के रूप में करवाया था। सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद गुरु नानक साहिब का वह वचन सिद्ध हुआ है। उन्होंने बताया कि गुरु नानक जी अयोध्या प्रवास के दौरान कई दिनों तक रुके थे और यहां संतों से धर्म चर्चा करते हुए कहा था कि अयोध्या वासी श्रीराम चंद्र जी के साथ स्वर्ग इसलिए गए क्योंकि उन्हें श्रीराम चंद्र जी के दर्शन का सौभाग्य प्राप्त हुआ था। यह तथ्य प्रमाणित जन्म साखी में अंकित है।

Posted By: Yogendra Sharma