नेमिष हेमंत, नई दिल्ली। अयोध्या केस पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई समाप्त हो चुकी है और 17 नवंबर से पहले किसी भी दिन इस पर फैसला आ सकता है। इस बीच, राम जन्मभूमि मंदिर पर किसी भी फैसले के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) ने खुद को तैयार करना शुरू कर दिया है। संघ को भरोसा है कि नवंबर के मध्य तक आने वाला सर्वोच्च अदालत का फैसला उसके पक्ष में होगा। लेकिन विपरित फैसला आने की स्थिति के लिए भी वह अपनी रणनीति बना रहा है। यही कारण है कि छतरपुर में चल रही RSS की 3 दिवसीय बैठक में गुरुवार को भी राममंदिर का मुद्दा छाया रहा। गुरुवार को बैठक का दूसरा दिन था।

इसमें सर संघचालक मोहन भागवत, संघ के शीर्ष पदाधिकारी और आनुषांगिक संगठनों के पदाधिकारियों ने हिस्सा लिया। भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा भी मौजूद रहे। वहीं, उत्तर प्रदेश भाजपा के संगठन मंत्री सुनील बंसल को भी खासतौर पर बुलाए गया।

संघ के एक पदाधिकारी ने बताया कि हम फैसला अपने पक्ष में आने को लेकर पूरी तरह आशांवित हैं। वैसे इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने अपने फैसले में मंदिर स्थान को 3 बराबर भागों में बांटने का आदेश दिया था। ऐसे में हर फैसले को लेकर खुद को तैयार किया जा रहा है और उसके अनुसार आगे की रणनीति बनाई जा रही है। संघ नहीं चाहता है कि फैसले के बाद देश में किसी भी प्रकार से सौहार्द बिगड़े।

बैठक में विंश्व हिदू परिषद (VHP) के उच्च पदाधिकारियों ने भी हिस्सा लिया। इसमें अनुषांगिक संगठनों के कामकाज की समीक्षा करने के साथ उनके लिए आगे की कार्ययोजना भी तैयार की जा रही है। साथ ही बैठक में महाराष्ट्र और हरियाणा के विधानसभा चुनावों पर भी बात हुई।

Posted By: Arvind Dubey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020