देश में कोरोना की तीसरी लहर का खतरा बढ़ गया है। अनेक जिलों में संक्रमण की दर अभी भी ज्‍यादा है। इसके चलते अब केंद्र ने राज्‍य सरकारों से कहा है कि वे लोगों के आने व जाने पर बंदिश लगाएं। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने शनिवार को इन राज्यों के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक की और संक्रमण दर को लेकर चिंता जताई। इन राज्यों में केरल, महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, ओडिशा, असम, मिजोरम, मेघालय, आंध्र प्रदेश और मणिपुर शामिल हैं। अभी भी देश के 46 जिलों में संक्रमण दर 10 फीसद से ज्यादा बनी हुई है। तीसरी लहर की आशंका से सजग केंद्र सरकार ने संबंधित राज्यों से 10 से ज्यादा संक्रमण दर वाले जिलों में सख्ती बरतने को कहा है और लोगों की आवाजाही को भी प्रतिबंधित करने की सलाह दी है। केंद्र ने 10 राज्यों में फैले 10 फीसद से ज्यादा वाले 46 जिलों के साथ ही पांच से 10 फीसद संक्रमण दर वाले 53 जिलों में भी सख्ती बरतने को कहा है। संबंधित राज्यों से कोरोना संक्रमण का पता लगाने के लिए इन जिलों में जांच तेज करने की भी सलाह दी है।

80 फीसद से ज्यादा मरीज होम आइसोलेशन में

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि इन राज्यों में 80 फीसद से ज्यादा मरीज होम आइसोलेशन में हैं। ऐसे में इन राज्यों से होम आइसोलेशन में रहने वाले लोगों पर कड़ी निगरानी रखने को कहा गया है, ताकि वे दूसरे लोगों के संपर्क में न आने पाएं। बैठक में इन राज्यों द्वारा संक्रमण रोकने के लिए उठाए गए कदमों और उसके प्रभाव की भी समीक्षा की गई। इन राज्यों में या तो प्रतिदिन ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं या संक्रमण दर बढ़ रही है।

केरल में बढ़ रहे सक्रिय मामले

बीते 24 घंटे के दौरान भी केरल में 20 हजार से ज्यादा नए मामले पाए गए हैं और सौ से ज्यादा मौतें हुई हैं। पिछले कुछ दिनों से रोजाना पांच सौ से ज्यादा मरीजों की जान भी जा रही है। सक्रिय मामले चार लाख से नीचे आ गए थे और बढ़कर 4.08 लाख से ज्यादा हो गए हैं। पिछले एक दिन में सक्रिय मामलों में 3,765 की वृद्धि हुई है। केरल के चलते महामारी पर मिली बढ़त खतरे में है। मंत्रालय की तरफ से जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले चार दिनों से लगातार केरल में ज्यादा मामले पाए जाने से सक्रिय मामलों की संख्या बढ़ रही है।

Posted By: Navodit Saktawat