Bihar Panchayat election result बिहार पंचायत चुनाव के परिणाम घोषित हो चुके हैं। कल हुई मतगणना में कई पंचायतों में बड़ा बदलाव देखने को मिला है। 22 में से 16 पंचायतों में पुराने पंचों को हार का सामना करना पड़ा है। ताजा चुनाव परिणाम के मुताबिक मुखिया पद के लिए नए उम्मीदवारों पर ग्रामीणों ने भरोसा जताया है। बिहार पंचायत चुनाव के आठवें चरण के नतीजे शुक्रवार को जारी कर दिए गए। आठवें चरण में जमुई जिले के खैरा प्रखंड से 16 नए मुख्य उम्मीदवारों ने जीत हासिल की है, वहीं 2 पंचायतों के मुखिया ने हैट्रिक बनाकर सबको चौंका दिया है। 4 पंचायतों के मतदाताओं ने एक बार फिर से पुराने सरपंचों पर ही भरोसा जताया है।

जमुई जिले में डॉक्टर बन गया प्रधान

जमुई जिले में पंच मुकाबले में एक डॉक्टर ने भी अपनी किस्मत आजमाई थी और जीत हासिल कर ली। करीब डेढ़ दशक से हेल्थ केयर ज्वाइन करने के बाद वह कोलकाता में प्रैक्टिस कर रहे थे। डॉ. इबरार आलम लगभग डेढ़ दशक से चिकित्सा सेवा में शामिल होने के बाद कोलकाता में अपना अभ्यास कर रहे हैं। डॉक्टरेट की डिग्री और शोध कर चुके डॉक्टर इबरार कोरोना के चलते लॉकडाउन में घर लौटे थे लेकिन फिर गांव के ही होकर रह गए और कोरोना काल में लोगों का मुफ्त इलाज किया।

ठाकुरगंज प्रखंड में 21 में से 19 पुराने चेहरे हार गए

इधर ठाकुरगंज प्रखंड के 21 पंचायतों में निवर्तमान 19 मुखिया हार चुके हैं। सिर्फ दो ही मुखिया प्रत्याशी अपना कब्जा बरकरार रख पाया। भातगांव पंचायत की मुखिया मीरा देवी और भोगडाबर की मुखिया रुखसाना बेगम को ही जीत मिली। इसके अलावा मुरलीगंज के सभी 17 पंचायतों का चुनाव परिणाम घोषित हो गया। 16 पंचायत में इस बार मतदाताओं ने मुखिया पद पर नए चेहरों को अवसर दिया है।

भागलपुर में ऐसा रहा पंचायत चुनाव परिणाम

भागलपुर के नाथनगर में दक्षिण क्षेत्र से मिथुन कुमार और उत्तरी क्षेत्र से धनंजय मंडल जिला परिषद पद पर जीते। रामपुर खुर्द गौतम पासवान मुखिया पद पर जीते। मुखिया पद पर नूरपुर पंचायत से ज्योति कुमारी, भतोड़िया पंचायत से मिठ नारायण मंडल, राघोपुर से धारो राय, बेलखोरिया अंजना देवी, गोसाईं दास पुर पिंकी देवी ने जीत दर्ज की।

Posted By: Sandeep Chourey