1 जून से देश में 100 ट्रेनें चलाई जाएंगी। इनके लिए टिकटों की ऑनलाइन बुकिंग IRCTC की वेबसाइट के ज़रिये हो रही है। रेलवे ने इन 100 ट्रेनों के नामों की सूची भी जारी की है। इन ट्रेनों में अधिकतम 30 दिन आगे तक का वेटिंग टिकट लेना मान्‍य होगा। Waiting वेटिंग और आरएसी RAC का टिकट भी नियमानुसार मिलेगा, लेकिन वेटिंग वालों को यात्रा की अनुमति नहीं मिलेगी।रेलवे ने यह भी स्पष्ट किया है कि इनमें एसी, नॉन एसी और जनरल सभी तरह के कोच होंगे। मंगलवार को केवल नॉन एसी ट्रेनों के चलने की बात कही गई थी। रेलवे द्वारा जारी सूची में दुरंतो, संपर्क क्रांति, जन शताब्दी और पूर्वा एक्सप्रेस जैसी ट्रेनों के नाम हैं। रेलवे ने इस मामले में यह बिल्‍कुल स्पष्ट किया है कि बगैर रिजर्वेशन के किसी को भी यात्रा की परमिशन नहीं होगी। यहां तक कि जनरल कोच (सामान्‍य श्रेणी) के लिए भी टिकट बुक किया जाएगा। इसके लिए यात्री को सेकेंड सीटिंग का किराया चुकाना होगा। बदले में उसे एक आरक्षित सीट मिलेगी। अन्य सभी श्रेणी में किराया सामान्य ट्रेनों जैसा ही रहेगा।

खास बातें, शर्तें और नियम

- 100 जोड़ी यात्री ट्रेनों का संचालन पहली जून से

- आज सुबह 10 बजे से शुरू होगी ट्रेनों की बुकिंग

- सूची में दुरंतो, संपर्क क्रांति, जन शताब्दी जैसी ट्रेनें

- एसी, नॉन-एसी, जनरल सभी तरह के कोच होंगे

- बिना रिजर्वेशन यात्रा करने की अनुमति नहीं होगी

- एसी और नॉन एसी दोनों कोच होंगे।

- IRCTC की वेबसाइट पर सुबह 10 बजे से केवल ऑनलाइन बुकिंग गुरुवार (21/05/20) से शुरू होगी।

- कोई अनारक्षित टिकट जारी नहीं किया जाएगा। बैठने के लिए आवंटित सीटों के साथ जनरल कोच भी आरक्षित होंगे

- एआरपी 30 दिन का होगा।

- आरएसी और प्रतीक्षा सूची के टिकट उपलब्ध होंगे।

- कोई तत्‍काल और प्रीमियम तत्‍काल बुकिंग नहीं होगी।

- वर्तमान आरक्षण ट्रेन के निर्धारित प्रस्थान से पहले 2 बजे तक ऑनलाइन उपलब्ध होगा।

- प्रतीक्षा-सूची वाले यात्रियों को बोर्ड / यात्रा करने की अनुमति नहीं होगी।

- फूड प्लाजा सहित स्टेशन के सभी स्टॉल खोले जाएंगे लेकिन केवल आर्डर वाला भोजन ही उपलब्‍ध होगा।

ये हैं महत्‍वपूर्ण ट्रेनों के नाम

लखनऊ मेल, श्रमजीवी एक्सप्रेस, प्रयागराज एक्सप्रेस, श्रमशक्ति एक्सप्रेस, गोमती एक्सप्रेस, गोरखधाम एक्सप्रेस, गोल्डन टेंपल, पश्चिम एक्सप्रेस

यहां देखें सभी 100 ट्रेनों के नाम और रूट की सूची

यह है IRCTC की नई गाइडलाइन

- 1 जून से चलने वाले इन 200 ट्रेनों के लिए एसी और नॉन-एसी टिकट की बुकिंग की जा सकती है। ध्यान रहे कि टिकट केवल IRCTC ऐप या वेबसाइट के जरिए ही बुक की जा सकती है। किसी भी स्टेशन पर काउंटर टिकट इश्यू नहीं किया जाएगा।

- ट्रेन के जनरल कोच के लिए भी रिजर्वेशन कराई जा सकती है। इसके लिए रेलवे IRCTC ऐप को अपडेट किया है। आप Google Play Store या iOS स्टोर से ऐप का लेटेस्ट वर्जन (3.0.21) अपडेट कर सकते हैं।

- जनरल बॉगी की टिकट बुक करने के लिए 2S (सेकेंड सीटिंग) वाला चार्ज लिया जाएगा। यानि की जनरल बॉगी में भी सीट से ज्यादा यात्री सफर नहीं कर सकेंगे।

- IRCTC ऐप या वेबसाइट से यात्रा से अधिकतम 30 दिन पहले की ही टिकट बुक की जा सकती है। लॉकडाउन से पहले यह लिमिट 120 दिनों की थी।

- स्टेशन पर यात्रा के निर्धारित समय से 90 मिनट पहले स्टेशन पर पहुंचना होगा।

- ट्रेन में यात्रा करने वाले हर यात्री के स्मार्टफोन में Aarogya Setu ऐप का होना अनिवार्य है।

- राजधानी स्पेशल ट्रेन में यात्रियों को एसी बॉगी में कंबल उपलब्ध नहीं कराया जा रहा है, वैसे भी इन ट्रेनों के एसी कोच में भी कंबल उपलब्ध नहीं कराया जाएगा।

1 जून से चलेंगी नॉन-एसी ट्रेनें

1 जून से देश में रोजाना नॉन-एसी टाइम टेबल वाली ट्रेनें चलेंगी। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बताया है कि इन ट्रेनों की संख्‍या 200 होगी। 1 जून से चलने वाली इन Non-AC द्वितीय श्रेणी की ट्रेनों की बुकिंग ऑनलाइन उपलब्ध होगी। यह सुविधा हर नागरिक के लिए है। गैर वातानुकूलित द्वितीय श्रेणी की ट्रेन होंगी एवं इन ट्रेनों की बुकिंग IRCTC पर ऑनलाइन ही उपलब्ध होगी।

वेटिंग लिस्‍ट के टिकट मिल सकेंगे

इन ट्रेनों में वेटिंग लिस्ट टिकट भी मिल सकते हैं, लेकिन तत्काल या प्रीमियम तत्काल जैसे व्यवस्था नहीं होगी। इन ट्रेनों की बुकिंग भी IRCTC की वेबसाइट के जरिए ही होगी।

श्रमिक स्‍पेशल ट्रेनों की संख्‍या बढ़कर होगी 400

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने यह भी जानकारी दी कि अगले 2 दिनों में भारतीय रेलवे श्रमिक स्पेशल ट्रेनों की संख्या प्रति दिन 400 कर देगा। सभी प्रवासियों से अनुरोध है कि वे जहां रहें, भारतीय रेलवे अगले कुछ दिनों में उन्हें घर वापस ले आएगी। गोयल ने कहा कि, राज्य सरकारों से आग्रह है कि श्रमिकों की सहायता करे तथा उन्हें नजदीकी मेनलाइन स्टेशन के पास रजिस्टर कर, लिस्ट रेलवे को दे, जिससे रेलवे श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाये। श्रमिकों से आग्रह है कि वो अपने स्थान पर रहें, बहुत जल्द भारतीय रेल उन्हें गंतव्य तक पहुंचा देगा।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस