नई दिल्ली। भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) के 22,000 से अधिक कर्मचारियों ने अपनी वीआरएस योजना का विकल्प चुना है। 5 नवंबर को शुरू की गई यह योजना 3 दिसंबर तक कयम रहेगी। बीएसएनएल में वर्तमान में जो कर्मचारी वीआरएस के पात्र हैं, उनकी कुल संख्‍या डेढ़ लाख है। एक अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि इस योजना को लेकर अभी अच्‍छा रिस्‍पांस सामने आया है। कर्मचारी बढ़-चढ़कर इस योजना को अपना रहे हैं। महज दो ही दिन में 22 हजार कर्मचारियों ने वीआएस ले लिया है। इनमें से 13 हजार कर्मचारी सी ग्रुप के हैं। अब बीएसएनएल को उम्‍मीद है कि 70 से 80 हजार कर्मचारी वीआरएस योजना में सहयोग करेंगे। वीआरएस लेने के बाद बीएसएनएल को लगभग 7 हज़ार करोड़ रुपए की बचत होगी।

यह है वीआरएस की पात्रता

जहां तक पात्रता की बात है, तो इस योजना के लिए 50 साल से अधिक आयु के सारे नियमित एवं स्‍थायी कर्मचारी पात्र होंगे। पिछले दिनों केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में बीएसएनएल और एमटीएनल के मर्ज का ऐलान किया गया था। इनके लिए 69 हजार करोड़ रुपए का पुर्नवास पैकेज स्‍वीकृत किया गया था। एमटीएनएल पिछले 10 वर्षों में से नौ में नुकसान में रही है और दूसरी तरफ बीएसएनएल भी वर्ष 2010 से घाटे में चल रही है। दोनों कंपनियों पर कुल कर्ज 40,000 करोड़ रुपये है, जिनमें से आधी देयता अकेले एमटीएनएल पर है।

यह भी पढ़ें : BSNL और MTNL नहीं होंगे बंद, कैबिनेट ने दी पुनर्वास पैकेज को मंजूरी

यह भी पढ़ें : प्रदेश के भी 700 से अधिक बीएसएनएल कर्मियों को मिल सकता है वीआरएस

Posted By: Navodit Saktawat