नई दिल्ली। देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत ने पद संभालते ही एक्शन शुरू किया है। उन्होंने देश के हवाई क्षेत्र को सुरक्षित करने के लिए कदम उठाने की तैयारी की है। खबर है कि उनके इस कदम के बाद जल्द ही एयर डिफेंस कमान का गठन किया जाएगा। 1 जनवरी को ही चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) का पद संभालने वाले जनरल बिपिन रावत ने अपने पहले फैसले में 30 जून तक एयर डिफेंस कमान का खाका तैयार करने का निर्देश दिया है। जनरल रावत ने बुधवार को ही देश के पहले सीडीएस तौर पर बागडोर संभाली थी।

पदभार संभालने के बाद सीडीएस ने एकीकृत रक्षा स्टाफ के अधिकारियों के साथ बैठक की और अनेक प्रकोष्ठों के प्रमुखों को तीनों सेनाओं के बीच समयबद्ध तरीके से तालमेल और सामंजस्य बढ़ाने के लिए सिफारिशें देने को कहा।

एक अधिकारी ने कहा, "सीडीएस ने निर्देश दिया है कि एयर डिफेंस कमान बनाने के प्रस्ताव को 30 जून तक तैयार किया जाए।" उन्होंने तीनों सेनाओं के बीच परस्पर सहयोग के लिए 31 दिसंबर तक विभिन्न पहलों को लागू करने की प्राथमिकताएं भी तय कीं।

अधिकारी के अनुसार तीनों सेनाओं के बीच सामंजस्य और तालमेल के लिए कुछ क्षेत्र चिह्नित किए गए हैं। ऐसे क्षेत्रों, जहां सेना के दो या दो से अधिक अंगों की उपस्थिति है, में साझा "साजो-सामान सहयोग पूल" स्थापित किया जाएगा। अधिकारियों के मुताबिक, जनरल रावत ने अनुपयोगी रस्मी गतिविधियों को कम करने की बात भी कही। उनका मानना है कि ऐसी गतिविधियों से श्रम जाया होता है। सीडीएस के रूप में जनरल रावत रक्षा मंत्री के प्रधान सैन्य सलाहकार होंगे। वह नए गठित सैन्य मामलों के विभाग का कामकाज देखेंगे।

Posted By: Ajay Barve