उत्तरप्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक बड़ा फैसला लिया है। आज (शुक्रवार) राज्य की उच्चस्तरीय बैठक में सीएम ने अधिकारियों को बिजली के दाम नहीं बढ़ाने के निर्देश दिए। इससे पहले प्रदेश में बिजली के दामों में वृद्धि की खबरें सामने आई थी। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार रेगुलेटरी सरचार्ज के नाम पर 10 फीसद तक इलेक्ट्रिसिटी के दाम बढ़ाने का विचार था। राज्य में कोरोना महामारी की स्थिति को देखते हुए जनता को राहत दी गई।

इससे पहले रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (आठवले) ने सीएम आदित्यनाथ से कोविड की दूसरी लहर को देखते हुए राज्य में बिजली का बिल माफ करने की मांग की थी। आरपीआई (ए) पार्टी के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष पवन भाई गुप्ता ने कहा कि कोरोना महामारी से परेशान जनता को राहत देने के लिए मुख्यमंत्री से तीन मांगों का पत्र दिया गया है।

उन्होंने कहा, काम-धंधा बंद होने के कारण लोगों आर्थिक संकट का सामना कर रहे हैं। ऐसे में अप्रैल 2021 से अगस्त 2021 तक बिजली, पानी, होल्डिंग टैक्स और ग्रामीण इलाकों में बिजली बिल माफ किया जाए। वहीं उत्तरप्रदेश पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड ने रेगुलेटरी सरचार्ज के लिए राज्य विद्युत नियामक आयोग को एक प्रस्ताव भेजा है। जिस पर 17 मई को नियामक आयोग द्वारा सुनवाई की जाएगी।

Posted By: Arvind Dubey