नई दिल्ली। कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लिए जाने और जम्मू कश्मीर और लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बनाए जाने के बाद भारत के पड़ोसी देश बौखला गए हैं। जहां पाकिस्तान कश्मीर मसले को हर स्तर पर उठाने की बात कह रहा है, वहीं अब चीन ने लद्दाख को केंद्र शासित राज्य बनाए जाने पर नाराजगी जताई है।

NDTV की रिपोर्ट के मुताबिक लद्दाख मामले से नाराज चीन ने भारतीय यात्रियों को कैलाश मानसरोवर की यात्रा करने के लिए वीजा देने से मना कर दिया है। बता दें कि मंगलवार को चीन ने भारत और पाकिस्तान दोनों से कश्मीर मसले पर चर्चा करने की सलाह देते हुए इसे 'गंभीर मसला' बताया था।

चीन ने दोनों देशों से मिलकर इस गंभीर मसले पर चर्चा कर हल निकालने की सलाह दी थी। वहीं चीन ने भारत द्वारा लद्दाख को यूनियन टेरेटरी घोषित किया जाना भी अस्वीकार किया था।

चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुईंग ने कहा 'चीन हमेशा से भारत का पश्चिमी क्षेत्र की चीनी सीमा को लेकर विरोध जताता रहा है। ये स्थिति यथावत थी और नहीं बदली थी।'

बता दें की लद्दाख को लेकर चीन के बयान का भारत की ओर से तत्काल जवाब दिया गया था। भारत ने चीन के बयान को सिरे से खारिज करते हुए इसे भारत का अंदरुनी मामला करार दिया था। भारत की ओर से कहा गया कि हमारा देश किसी के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप नहीं करता है और दूसरे देशों से भी यही उम्मीद रखता है।

चीन में स्थित कैलाश मानसरोवर की यात्रा हर साल विदेश मंत्रालय द्वारा जून से सितंबर के बीच आयोजित की जाती है। इस बार चीन के बिगड़े रवैये से यात्रा प्रभावित हो सकती है।