नई दिल्ली। पूर्व सांसदों ने यदि तीन दिनों में बंगला खाली नहीं किया तो इन बंगलों के बिजली, पानी व गैस कनेक्शन काट दिए जाएंगे। लोकसभा की एक समिति ने सोमवार को लुटियन दिल्ली स्थित सरकारी बंगला खाली न करने वाले पूर्व सांसदों को इस तरह का अल्टीमेटम दिया है।

लोकसभा की आवास समिति के अध्यक्ष सीआर पाटिल ने कहा कि आवास समिति की सोमवार को हुई बैठक में यह फैसला किया गया है सांसदों से एक हफ्ते के भीतर आवासों को खाली करने को कहा गया है। उन्होंने कहा, किसी भी पूर्व सांसद ने यह नहीं कहा है कि वे अपना बंगला खाली नहीं करेंगे। नियमों के मुताबिक पूर्व सांसदों को पिछली लोकसभा भंग होने के एक महीने के भीतर अपना सरकारी बंगला खाली कर देना चाहिए था।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने केंद्रीय मंत्रिमंडल की सिफारिश पर 16वीं लोकसभा को 25 मई को तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया था। एक सूत्र ने बताया, 'लोकसभा के 200 से अधिक पूर्व सदस्यों ने अब तक अपने सरकारी बंगलों को खाली नहीं किया है। इन्हें वर्ष 2014 में ये बंगले आवंटित किए गए थे।' पूर्व सांसदों के बंगला खाली नहीं करने के कारण नवनिर्वाचित लोकसभा सदस्यों को अस्थायी आवासों में रहना पड़ रहा है।