कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने जलियांवाला बाग के नवीनीकरण पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने इसे शहीदों का अपमान बताया है। कहा है कि यह वहीं कर सकता है, जो शहादत का मतलब नहीं जानता है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि जलियांवाला बाग के शहीदों का ऐसा अपमान वहीं कर सकता है, जो शहादत का मतलब नहीं जानता। मैं एक शहीद का बेटा हूं। शहीदों का अपमान किसी कीमत पर सहन नहीं करूंगा। हम इस अभद्र क्रूरता के खिलाफ हैं। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष के ट्वीट से सियासत गर्मा गई है। ट्विटर पर यूजर्स उन्हें ट्रोल कर रहे हैं। जबकि कई उन्हें समर्थन दे रहे हैं। वहीं पंजाब मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर ने राहुल गांधी के बयान से असहमति जताई है। उन्होंने कहा है कि जलियांवाला बाग के नवीनीकरण में कुछ भी गलत नहीं है। समय के साथ इमारतें कमजोर हो गई थीं और दरारें भी पड़ गई थी। जिससे ठीक करना जरूरी था।

ऐसा पहली बार नहीं है कि कैप्टन ने किसी मुद्दे पर राहुल के स्टैंड के खिलाफ बयान दिया हो। इससे पहले जीएसटी के मुद्दे पर भी ऐसा हुआ था जब कांग्रेस ने इसके विपरीत स्टैंड लिया था और इसे राज्यों के लिए फायदेमंद बताया था। गौरतलब है कि जलियांवाला नरसंहार के 100 साल पूरे होने पर बाग के संरक्षण और नवीनीकरण का काम केंद्र सरकार के संस्कृति मंत्रालय की ओर से जून 2019 में शुरू करवाया गया था। 15 फरवरी, 2020 को बाग को बंद कर दिया गया था। नवीनीकरण पर करीब 20 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। प्रोजेक्ट पर काम आर्कियोलाजिकल सर्वे आफ इंडिया के स्थानीय प्रभारी भानुप्रताप सिंह की देखरेख में करवाया गया है। अगले चरण में यहां पर पाथ-वे बनाया जाएगा।

Posted By: Navodit Saktawat