Congress Meeting : संसद के शीतकालीन सत्र की शुरुआत से पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास पर कांग्रेस संसदीय रणनीति समूह की अहम बैठक हुई। इस बैठक में आगामी संसद सत्र के लिए पार्टी की रणनीति और उठाये जानेवाले मुद्दों पर चर्चा हुई। इस बैठक के लिए राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी, केसी वेणुगोपाल, एके एंटनी, मानिक टैगोर, रवनीत सिंह बिट्टू, के सुरेश, आनंद शर्मा सोनिया गांधी के आवास पर पहुंचे थे। वहीं, मनीष तिवारी अपने क्षेत्र से वीडियो कॉल के जरिए जुड़े थे। आपको बता दें कि संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से शुरू हो रहा है। विपक्ष इस सत्र में सरकार को घेरने की तैयारी में जुट गया है।

बैठक खत्म होने के बाद राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने बताया, "कांग्रेस संसदीय रणनीति समूह की बैठक में आज हमने फैसला किया है कि हम संसद में कई मुद्दे को उठाएंगे, जिसमें महंगाई, पेट्रोल-डीजल की कीमतें, चीनी आक्रामकता के मुद्दे और जम्मू कश्मीर का मुद्दा शामिल है." उन्होंने बताया कि शीतकालीन सत्र के पहले दिन यानी 29 नवंबर को कांग्रेस किसानों का मुद्दा उठायेगी, जिसमें एमएसपी (MSP) और लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा को बर्खास्त करना शामिल है। मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि हम संसद में इन मुद्दों पर विपक्षी दलों को एक साथ लाने के लिए अपने प्रयासों के तहत विभिन्न दलों के नेताओं को बुलाएंगे।

माना जा रहा है कि पिछली बार की तरह इस बार भी सत्र हंगामेदार रहेगा। कांग्रेस ने मोदी सरकार को घेरने के लिए करीब 15-16 ज्वलंत मुद्दों पर तैयारी की, जिन्हें शीतकालीन सत्र में उठाया जाएगा। इसके लिए दूसरे विपक्षी दलों को साथ जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है। लेकिन ममता बनर्जी का रवैया कुछ अलग दिख रहा है। चर्चा है कि तृणमूल कांग्रेस संसद में खुद को विपक्ष की अगुवा के रूप में पेश करने की कोशिश कर सकती है। बता दें कि ममता बनर्जी 25 नवंबर तक दिल्ली दौरे पर थीं, लेकिन इस दौरान उन्होंने सोनिया गांधी से मुलाकात नहीं की।

Posted By: Shailendra Kumar