कांग्रेस में चिट्ठी विवाद के बाद बड़ा पार्टी के अंदर बड़ा फेरबदल किया गया है। कांग्रेस ने अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के महासचिवों और प्रभारियों की नियुक्ति कर दी है। उत्तर प्रदेश के महासचिव के रूप में प्रियंका गांधी वाड्रा की नियुक्ति की गई है। गुलाम नबी आजाद से महासचिव का पद छीन लिया गया है। पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला का कद और बढ़ा दिया गया है अब वह कांग्रेस अध्यक्ष को सलाह देने वाली उच्च स्तरीय छह सदस्यीय विशेष समिति का हिस्सा हैं। पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आज़ाद को उनके महासचिव के पद से हटा दिया गया है, जबकि कांग्रेस अध्यक्ष को सलाह देने वाली छह सदस्यीय समिति में रणदीप सुरजेवाला को शामिल किया गया है। परिवर्तन के बाद गुलाम नबी आज़ाद सहित अंबिका सोनी, मोती लाल वोहरा, लुज़ेनियो फलेरियो, मल्लिकार्जुन खड़गे महासचिवों की सूची से बाहर हो गए हैं। कांग्रेस ने आज कांग्रेस कार्य समिति (CWC) और उसके केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण का नए सिरे से गठन किया है। इसे कांग्रेस में बड़ा फेरबदल मना जा रहा है।

विवादित पत्र लिखने वालों में शामिल जितिन प्रसाद और राजीव शुक्ल को भी पहली बार प्रभारी बनाते हुए राज्यों का प्रभार सौंपा गया है। राहुल गांधी के करीब सचिन राव को कार्यसमिति में बतौर विशेष आमंत्रित सदस्य शामिल किया गया है तो गुलाम नबी आजाद और आनंद शर्मा को भी इसमें बरकरार रखा गया है। जितिन प्रसाद को प्रमोशन देकर हाईकमान ने विवाद के अध्याय को अपनी तरफ से बंद करने का संदेश देने की कोशिश भी की है।सोनिया ने पार्टी के कामकाज में अपनी मदद के लिए छह सदस्यीय विशेष समिति का गठन किया है। एके एंटनी, अहमद पटेल, अंबिका सोनी, केसी वेणुगोपाल, मुकुल वासनिक और रणदीप सुरजेवाला इसके सदस्य हैं। इस समिति में पत्र विवाद से जुड़े किसी नेता को नहीं रखा गया है।

केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण का गठन

कांग्र्रेस के नए अध्यक्ष का चुनाव करने के लिए केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण का गठन किया गया है। इसके जरिये सोनिया गांधी ने अध्यक्ष को लेकर असंतुष्ट नेताओं के साथ पार्टी कैडर को यह संदेश देने की कोशिश की है कि छह महीने के भीतर पार्टी को नया अध्यक्ष मिल जाएगा। मधुसूदन मिस्त्री को इस चुनाव प्राधिकरण का अध्यक्ष बनाया गया है।

बदलाव में तारिक अनवर को केरल और लक्षद्वीप, रणदीप सुरजेवाला को कर्नाटक और जितेंद्र सिंह को असम का प्रभारी बनाया गया है। हरीश रावत को पंजाब का प्रभारी महसचिव बनाया गया है। जितिन प्रसाद को बंगाल जैसे अहम राज्य का प्रभार सौंपा गया है तो राजीव शुक्ल को हिमाचल प्रदेश की जिम्मेदारी दी गई है। मोतीलाल वोरा की जगह पवन बंसल को कांग्रेस मुख्यालय के प्रशासन का जिम्मा सौंपा गया है। एचके पाटिल को महाराष्ट्र और देवेंद्र यादव को उत्तराखंड का प्रभारी बनाया गया है।

सोनिया गांधी ने पार्टी की शीर्ष इकाई कार्यसमिति यानी सीडब्ल्यूसी में संतुलन बनाए रखने की पूरी कोशिश की है। कुछ वरिष्ठ नेताओं को इसमें बनाए रखा है तो राहुल के करीबी कई युवा चेहरों भी जगह दी है। सचिन राव, मणिक्कम टैगोर, सुस्मिता देव जैसे नाम इसमें प्रमुख हैं। दिग्विजय सिंह और सलमान खुर्शीद को दोबारा बतौर विशेष आमंत्रित सदस्य कार्यसमिति में जगह मिली है।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020