नई दिल्ली Vaccination Blood Clotting । भारत में कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ वैक्सीनेशन की शुरुआत जनवरी 2021 में शुरु की गई थी, तब से लेकर अभी तक वैक्सीन लगवाने वाले लोगों में 23000 से ज्यादा एडवर्स इफेक्ट के मामले सामने आ चुके हैं। देश के 684 जिलों में एडवर्स इफेक्ट के 700 से ज्यादा मामले बेहद गंभीर तरह के रहे। एईएफआई कमेटी की ओर से की गई जांच में अभी तक 26 मामले ब्लड क्लॉटिंग के सामने आए। Blood Clotting के सभी मामले उन लोगों के हैं, जिन्होंने कोविशील्ड वैक्सीन ली है।

आधिकारिक सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक कोवैक्सीन को लेकर AEFI कमेटी को ब्लड क्लॉटिंग की एक भी शिकायत नहीं मिली है। कोविशील्ड के मामले में यूके में 4 मामले प्रति मिलियन और जर्मनी में 10 मामले प्रति मिलियन ब्लड क्लॉटिंग की शिकायत आई है। अब कोविशील्ड वैक्सीन को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी एडवाइजरी जारी की है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी की एडवाइजरी

स्वास्थ्य मंत्रालय ने हेल्थ वर्कर और कोविशील्ड लेने वालों के लिए एडवाइजरी जारी की है, ताकि वे ब्लड क्लॉटिंग के लक्षणों को लेकर सतर्क रहें। एडवाइजरी में बताया गया है कि कोरोना टीका लेने के 20 दिन बाद तक ब्लड क्लॉटिंग के लक्षण दिखाई दे सकते हैं। ऐसे में मरीजों को सीने में दर्द, सांस की तकलीफ, पेट में दर्द, कमजोरी देखने को मिल सकती है। अगर वैक्सीन लगने के बाद किसी भी मरीज को ऐसे कोई भी लक्षण दिखाई दें तो तत्काल डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

Posted By: Sandeep Chourey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags